जब राम चाहेंगे तभी बनेगा अयोध्या में मंदिर

0
19

झाँसी। श्री सखी के हनुमान मंदिर प्रांगण में 19वें वार्षिकोत्सव पर महंत नागा मोहन दास महाराज के सानिध्य में चल रहे 21 कुंडीय श्रीराम महायज्ञ व श्रीराम कथा के पांचवे दिन कथा वाचक मानस प्रवक्ता प्रेम भूषण महाराज ने कहा कि परमात्मा की लीला को कोई नहीं समझ सकता। जब राम चाहेंगे तभी अयोध्या में मंदिर बनेगा। यह काम उनके हाथों का है। हमारे नहीं।
प्रेम भूषण महाराज ने राम वन गमन की कथा सुनाते हुए कहा कि सभी अयोध्यावासी चाहते थे कि भगवान राम अयोध्या के राजा बनें किंतु प्रभु को कुछ और ही रास आ रहा था और लीला रचकर मां कैकई को अपने वरदान में स्वयं के लिए वन मंगवा लिया। ठीक ऐसी ही स्थिति आज राम मंदिर के निर्माण को लेकर है। सभी चाहते हैं कि अतिशीघ्र मंदिर का निर्माण हो लेकिन होगा वही जो राम चाहेंगे। उन्होने वर्ष 2019 तक मंदिर बन जाने की प्रबल संभावना भी जताई। उन्होंने कहा कि परमात्मा की बनाई सभी चीजें सत्य हैं। मानव द्वारा रचित सभी असत्य। उन्होंने कहा कि भगवान राम के वन जाने पर अयोध्या में सन्नाटा पसरा हुआ था। किसी को उम्मीद नहीं थी कि इस स्थिति का सामना करना पड़ेगा। भगवान ने अपने को भगवान नहीं माना। आज इसके विपरीत हो रहा है। जो नहीं होता वह दिखाया जाता है। जो होता है उसे दिखाया नहीं जाता

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY