लाश के ढेर की निगरानी के लिए गिद्ध उतावले, जातीय हवा दे रहे हैं अश्वनी आत्महत्या को

0
177

झांसी। वः री राजनीती एक दिवंगत की मौत पर भी राजनीती करने से बाज़ नही आरहे, आज कल मेडिकल कॉलेज झांसी में पिछले दिनो हुई छात्र अश्विनी कुमार की मौत पर मेडिकल के ही कुछ लोग धीरे-धीरे राजनीति रंग देने की कोशिश में लग गए है। छात्र अश्विनी कुमार की आत्महत्त्य के मामले में प्रदर्शन के नाम पर गुटबाजी होने लगी है, और इस को हवा देनेवाले और कोई नही वल्कि कुर्सी की लालसा रखने बाले है जो इसे हवा देने की लगातार कोशिस में लगे है। मेडिकल कॉलेज झांसी में एमबीबीएस कर रहे छात्रों ने कैंपस में जातीय एकता मार्च निकालकर छात्र एकता का संदेश देने की कोशिश की जिसे देख बार्ड नम्वर एक में भर्ती मरीजों के तामीरदारो ने जातीय आधार पर डॉक्टर पेशे से जोड़ना बिलकुल गलत बताया प्रदीप का कहना कि अगर डॉक्टर ही जातीय प्रदर्शन करने लगे तो मरीज का इलाज भी जातीय आधार पर करेंगे ऐसा नही होना चईये, इस मौके पर कई छात्र ओर छात्राओं ने अपने हाथ पर काला रिबन बांधकर विरोध प्रदर्शन भी कर रहे थे उन्ही में एक छात्र ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि ये लड़ाई केवल प्रिंसिपल की कुर्सी के लिए की जा रही है , दावेदार के अनुरोध पर इन प्रदर्शनों को अंजाम दिया जा रहा, इतना ही नही छात्र ने ये भी बताया कि यहाँ रहे पूर्व प्राचार्य जिन्हें कालेज की खबर व्यवस्था के कारणों से निलंवित कर दिया गया था जो प्रदेश में एक मेडिकल कालेज के प्राचार्य है , उनकी भी नजर झाँसी पर कई और कई लोगो के संपर्क में है , वही दूसरी ओर छात्रों ने बताया कि अश्विनी कुमार की मौत को कुछ लोग राजनीतिक रूप देने की कोशिश कर रहे हैं और कुछ लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए अश्विनी की मौत का फायदा उठाने को कोशिश भी कर रहे है। छात्रों ने बताया की डॉक्टर की कोई जाति नहीं होती, उनकी जाति सिर्फ एक है, और वह है मेडिकल कॉलेज में आने वाले रोगियों का उपचार कर उनकी सेवा करना। छात्रों ने बिना किसी का नाम लिए यह भी स्पष्ट कर दिया की अश्विनी की मौत के पीछे मेडिकल कॉलेज के कुछ वरिष्ठ लोग भी शामिल है, उन्होंने कहा कि समय आने पर जनता के सामने सब कुछ आ जायेगा। छात्रों ने बताया कि मेडिकल कॉलेज में किसी भी छात्र के साथ जातिवाद नहीं होता कुछ लोगों ने मेडिकल कॉलेज का माहौल खराब करने के उद्देश्य अश्वनी की मौत का मामले को बे-वजह तूल देने की कोशिश की है। अश्विनी की मौत कैसे हुई फिलहाल इस प्रकरण की जांच पुलिस कर रही है।

NO COMMENTS