211 लाख का बजट विकास कार्यो के लिए अनुमोदित

0
203

चित्रकूट- जिला पंचायत की मासिक बैठक में 23 विभागों के कार्यो की समीक्षा की गयी। आधा दर्जन से अधिक विभागों के प्रतिनिधियों के अनुपस्थित रहने पर संबंधित विभागाध्यक्ष को पत्र लिखकर कारण पूछने के निर्देश दिये गये हैं। अब जिला पंचायत जिले की सीमा स्थली पर स्वागत लिखा प्रवेश द्वार लगायेगा। आगामी वित्तीय वर्ष के लिए 211 लाख का बजट अनुमोदित कर दिया गया।

सोमवार को जिला पंचायत सभागार में हुई बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये। सबसे पहले उद्यान विभाग द्वारा कराये गये कार्यो की समीक्षा में तमाम कमियां निकलने पर बोर्ड ने विभाग के कार्यो की जांच कराने को कहा। पिछड़ा क्षेत्र अनुदान निधि के तहत समाज कल्याण विभाग को दिये गये 35 कार्यो में सिर्फ दस ही कराये गये। बेसिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, भूमि संरक्षण, समाज कल्याण, लघु सिंचाई, नलकूप व नेडा विभाग की अनुपस्थिति पर सभी नाराज हुये। बैठक में सीडीओ पी सी श्रीवास्तव ने ग्रामीण क्षेत्रों में हो रहे निर्माण कार्यो में हैडपंप व आवास को प्राथमिकता देने को कहा। उन्होंने उद्यान विभाग के कार्यो पर असंतोष जाहिर करते हुए सभी कार्यो की जांच कराने को कहा। जिला पंचायत अध्यक्ष वीर सिंह ने कहा कि अब तीर्थ स्थली के ग्रामीण क्षेत्रों के विकास पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। जिला पंचायत द्वारा कराये गये कार्याे में भ्रष्टाचार की शिकायत पर उच्च स्तरीय जांच कराई जायेगी। बैठक में जिला पंचायत सदस्य डा. रमेश चंद्र ने कहा जिले की प्रवेश सीमा स्थली पर जिला पंचायत स्वागत द्वार बनवाये। जिसे बोर्ड ने स्वीकृति प्रदान की। अपर मुख्य अधिकारी के एन खरवार ने बताया कि पिछड़ा क्षेत्र अनुदान निधि के तहत स्वीकृत 117 लाख के 35 कार्य कराने के लिए समाज कल्याण विभाग को जिम्मेदारी दी गई थी, परंतु विभाग ने सिर्फ 10 कार्य कराये है। अब शेष कार्य उप्र सहकारी निर्माण एवं विकास लिमिटेड द्वारा कराये जायेंगे। उन्होंने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में जिला पंचायत से 211 लाख रुपये के कार्य अनुमोदित हैं। आगामी वर्ष के लिए भी नये प्रस्ताव मांगे गये है। बोर्ड ने 211 लाख का आगामी बजट अभी से अनुमोदित कर दिया है। बैठक में पांचों ब्लाक प्रमुख व आधे सदस्य अनुपस्थित रहे।

NO COMMENTS