2012 तक अवश्य बन जाएगा बुन्देलखण्ड अलग राज्य : राजा बुन्देला

0
184

अब बुन्देलखण्ड राज्य बनने में ज्यादा देर नहीं है। बुन्देलखण्ड मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने दावा करते हुए कहा कि   सन् 2012 तक बुन्देलखण्ड राज्य अवश्य बन जाएगा। चाहे केवल उत्तर प्रदेश का ही बने। लेकिन वे चाहते हैं कि मध्यप्रदेश व उत्तर प्रदेश दोनों को मिला कर बुन्देलखण्ड एक सम्पूर्ण राज्य के रूप में लोगों के सामने आए तभी बुन्देलियों का सपना पूरा होगा।

     बता दें कि बुन्देलखण्ड मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजा बुन्देला मंगलवार को जिला मुख्यालय स्थित पीडब्ल्यूडी डाकबंगले में प्रेस से मुखातिब थे। उन्होंने बुन्देलखण्ड वासियों का आह्वान करते हुए कहा कि हमें अपनी बोली, कार्य व व्यवहार से हमेशा यही दिखाना चाहिए कि हम अपने बंुन्देलखण्ड के लिए सबकुछ न्योछावर करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि बुमुमो की हमेशा यही सोच रही है कि चाहे किसी भी पार्टी का हो जो बुन्देलखण्ड को अलग राज्य बनाने के लिए संघर्ष कर रहा है उनसे किसी न किसी रूप में जुड़ा हुआ है। बुमुमो राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बुन्देला ने कहा कि हम अपनी छोटी से छोटी लड़ाई भी एक बड़ी ताकत के रूप में लड़ें तभी अपने उद्देश्यों में सफलता मिलेगी। उन्होंने पुरजोर दावा करते हुए कहा कि यदि आने वाले समय में केन्द्र सरकार तेलंगाना को अलग राज्य बनाने की घोषणा करती है तो इसके पहले उसे बुन्देलखण्ड को अलग राज्य बनाना होगा। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद जो भी नए राज्य गठित हुए उन्होंने हर तरह से अपनी तरक्की की। बिना अलग राज्य बने बुन्देलखण्ड का विकास भी असम्भव है। श्री बुन्देला ने कहा कि सन् 1955 में बुन्देलखण्ड राज्य बनते-बनते रह गया था। वहीं दूसरी ओर सन् 1975 में चौधरी चरण सिंह और श्रीमती इन्दिरा गांधी के भी प्रयास असफल रहे। जबकि छत्तीसगढ़, उत्तराखण्ड, झारखण्ड आदि राज्यों के निर्माण के समय भी उम्मीद जगी थी कि अब शायद बुन्देलखण्ड भी अलग राज्य बनेगा। लेकिन इस ओर किसी भी सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया। उन्होंने बताया कि आगामी 19 अप्रैल को दिल्ली में अलग राज्यों से सम्बंधित विचार गोष्ठी आयोजित की गई है। जिसमें लालू यादव, अमर सिंह, अजीत सिंह सहित कई अन्य बड़े नेता शामिल होंगे। इस दौरान बुन्देलखण्ड को अलग राज्य बनाने के लिए भी अपनी बात रखीा जाएगी। इसी तरह 23 मार्च को ओरछा में बुमुमो द्वारा किसान सम्मेलन का आयोजन किया गया है। जिसके माध्यम से अलग राज्य की मुहिम तेज की जाएगी। अपने अभियान को गति देने के लिए बनाई गई योजनाओं के बारे में उन्होंने बताया कि परीक्षाएं समाप्त हो जाने के बाद बुमुमो विद्यार्थियों से संपर्क कर छात्रा सेना का भी गठन करेगी। इसके अलावा हर जिले में दो दिन मानव श्रृंखला बना कर लड़ाई को रफ्तार पकड़ाई जाएगी। इसके अलावा उन्होंने बताया कि जब उन्हें यह पता चला कि चित्राकूट जिले के बरगढ़ क्षेत्रा में एनटीपीसी द्वारा लगाया जाने वाला चार हजार वाट का मेगा विद्युत पावर प्लांट अब दूसरी जगह लगाए जाने की योजना है तो उन्होंने इसके लिए
भारत सरकार के ऊर्जा मन्त्राी को एक ज्ञापन भी भेजा था। उनकी कोशिश है कि जिले वासियों को उनका हक अवश्य मिले। प्रेस वार्ता के दौरान उनके साथ जावेद खान, कैप्टन सूर्य प्रकाश मिश्र, डा. विजय कश्यप, शंकरमणि वर्मा, अवधेश श्रीवास्तव, अजीत िंसह, अमित यादव, फूलचन्द्र करवरिया सहित अन्य लोग मौजूद रहे।