200 घड़ियाल नदी में छोड़े जाएंगे

0
137

ग्वालियर -चंबल नदी में घड़ियालों की संख्या बढ़ेगी। देवरी घड़ियाल केन्द्र में वयस्क हो रहे 306 शावकों में से इस साल दो सौ को नदी में छोड़ा जाएगा। मुरैना वन मंडलाधिकारी ने शावकों को छोड़ने के लिए आला अफसरों से इजाजत मांगी है।

मुरैना के देवरी घड़ियाल केन्द्र में चंबल नदी से एकत्रित कर लाए गए घड़ियाल के अंडों को रखा जाता है। यहां शावकों के वयस्क होने पर चंबल या फिर केन नदी में छोड़ दिया जाता है। इस साल मार्च-अप्रैल महीने में वन विभाग ने चंबल नदी के विभिन्न स्थलों से घड़ियालों के 500 अंडे एकत्रित किए थे। इनमें से 401 शावक जन्म ले सके थे, 95 की मौत हो चुकी है। इस समय घड़ियाल केन्द्र में 306 शावक बचे हुए हैं। इनमें से 200 को नदी में छोड़ने के लिए वन मंडल मुरैना ने आला अफसरों को पत्र लिखा है। यदि अनुमति मिल जाती है तो मई-जून में इन्हें चंबल नदी, केन या फिर सोन नदी में छोड़ दिया जाएगा।