1 फरवरी से शुरू होगा झाँसी महोत्सव

0
176

झाँसी महोत्सव समिति की पहली बैठक में विभिन्न कार्यक्रमों के लिए समितियों को हरी झण्डी मिल गयी। महोत्सव 1 से 10 फरवरी 2010 में आयोजित होगा। उद्घाटन व अन्य प्रमुख कार्यक्रमों के लिए कलाकारों का चयन सांस्कृतिक समिति करेगी।

कलेक्ट्रेट स्थित गांधी सभागार में जिलाधिकारी राजशेखर की अध्यक्षता में हुई बैठक में विभिन्न समितियों को पिछले वर्ष के स्वरूप में ही लगभग स्वीकृति दे दी गयी। डी एम ने कार्यक्रम को अंतिम रूप देने के लिए सभी समितियों से प्रत्येक सप्ताह दो बार बैठक कर व्यवस्था व सम्भावित व्यय पर भी विचार कर लेने की बात कही, जिससे अभी से धनराशि का प्रबंध किया जा सके। जिलाधिकारी के सुझाव पर सभी समितियों के प्रमुखों व कुछ प्रतिनिधियों को शामिल कर सुपर कमेटी बनाई गयी, जो सभी समितियों की समस्याओं को सुलझाएगी। उन्होंने जनता से भी सुझाव व महोत्सव का नाम आमंत्रित करने को कहा।

बैठक में बुन्देली कलाकारों को प्रोत्साहित करने व स्मारिका प्रकाशन के लिए बजट बढ़ाने के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया। सांस्कृतिक मंच पर कलाकारों के चयन के लिए कई नाम आए, लेकिन जिलाधिकारी ने समिति की बैठक कर कलाकारों के नाम को अंतिम रूप देने को कहा। बैठक में शोभायात्रा को भव्य रूप देने तथा शोभायात्रा के दिन हैलीकाप्टर से पुष्प वर्षा कराने, अच्छे कलाकारों को बुलाने, खेलों को बढ़ावा देने, सेना के शस्त्रों के प्रदर्शन, विभिन्न विभागों की विकास झांकियों को शामिल करने तथा झाँसी रानी को सहयोग देने वाले राजा मर्दन सिंह के वंशजों को सम्मानित करने के सुझाव आए। साथ ही क्राफ्ट शिल्प मेला, कला पर्व व बुन्देली मंच पर होने वाले कार्यक्रमों को भी अंतिम रूप दिया गया। नगर आयुक्त ने कला पर्व के कार्यक्रम लक्ष्मीबाई पार्क से बाहर करने का सुझाव दिया। बैठक में पर्यटन को बढ़ावा देने तथा झाँसी महोत्सव से पर्यटकों को जोड़ने को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई। आयोजक पर्यटन विभाग भी इस तरफ मौन ही रहा।

बैठक में अपर जिलाधिकारी, नगर आयुक्त, झांसी विकास प्राधिकरण के सचिव, उप जिलाधिकारी व अपर नगर मजिस्ट्रेट समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी के साथ हरगोविन्द कुशवाहा, मुकुन्द मेहरोत्रा, डॉ. जवाहर लाल कंचन, मोहन नेपाली, संजय पटवारी, नरोत्तम अग्रवाल व नीति शास्त्री समेत समिति के सदस्य उपस्थित रहे।