हजरत इमाम की शाही सवारी आज निकलेगी

0
219

मोहर्रम की सातवीं तारीख यानी 25 दिसंबर की रात हजरत इमाम हुसैन की एतिहासिक सवारी निकाली जाएगी। घोड़ा जुलूस नाम से समूचे बुंदेलखंड में विख्यात यह जलसा मोहर्रम का सबसे अहम मुकाम है। इस मौके पर चरखारी में लाखों की भीड़ जुटती है।

आम तौर पर मोहर्रम के मातमी त्यौहार को ताजिया के रूप में जाना जाता है। इससे इतर चरखारी में सिया समुदाय का हजरत इमाम हुसैन की सवारी घोड़ा निकालने का जलसा सदियों से इस पर्व का सबसे अहम मुकाम बना हुआ है। 25 दिसंबर को इस जलसे को उप्र मप्र के कई जिलों की लाखों की भीड़ जुटनी है। हजारों लोग घोड़े को जलेबी खिला मन्नतें मांगते है। देर शाम वीपार्क से शुरू हुआ यह जुलूस झण्डा बाजार, ड्योढ़ी दरवाजा होते हुए सुबह तक रावबाग पहुंचकर समाप्त होता है। इसमें अखाड़ा, वजरोटी नातियां बैंड आदि प्रमुख आकर्षण होते है। इसमें जुटने वाली भारी भीड़ के मद्देनजर जिला प्रशासन ने विभिन्न थानों की पुलिस लगा सुरक्षा व्यवस्था चौकस करने की कवायद शुरू कर दी है।