स्व. करवरिया केा दी गई बैठक में श्रृद्धांजलि गोपनीय बैठक में रिक्त पद पर भी किया गया विचार विमर्श

0
223

प्रभु श्रीराम की तपोस्थली में लगातार कई वषोZं से अनवरत चल रहे राष्ट्रीय रामायण मेले के कार्यकारी अध्यक्ष गोपाल कृष्ण करवरिया के निधन के बाद उनका पद रिक्त हो गया था। जिसके बाद से रामायण मेला समिति के लोग लगातार ऐसे व्यक्ति की खोज में जुटे हुए थे जो उनका स्थान ले कर रामायण मेला की जिम्मेदारी भलीभान्ति सम्भाल सके। इसी को लेकर रविवार को समिति की बैठक रामायण मेला परिसर में आयोजित हुई। जिसमें साधारण सभा व कार्यकारिणी के सदस्यों ने सबसे पहले अपनी-अपनी श्रृद्धांजलि स्व. श्री करवरिया को दी। इसके बाद कार्यकारिणी की  गोपनीय बैठक भी डा. राममनोहर लोहिया सभागार में आयोजित हुई। सूत्राों से पता चला कि बैठक में समिति के कई पदाधिकारियों ने कार्यकारी अध्यक्ष पद के लिए अपनी-अपनी दावेदारी पेश की।  जिस पर समिति के लोग काफी देर तक विचार विमर्श करते रहे। सूत्राों की माने तो बैठक में मौजूद लोगों के बीच काफी बहस बाजी भी हुई लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकल सका। बताया जाता है कि बैठक में मौजूद कुछ लोग ऐसे भी थे जो खुद को स्व. श्री करवरिया का उत्तराधिकारी बताते हुए व्यवस्थाओं की कमान सम्भालने का दावा कर रहे थे। लेकिन अन्य लोगों के कारण उनकी भी दाल नहीं गल सकी। बैठक में उपस्थित पूर्व सांसद भीष्मदेव दुबे ने कहा कि आज श्रृद्धांजलि सभा आयोजित हुई थी। रिक्त कार्यकारी अध्यक्ष पद के लिए कोई चर्चा नहीं हुई। अभी समिति के माध्यम से ही व्यवस्थाएं देखी जा रही हैं। इस दौरान बैठक में पूर्व मन्त्राी जमुना प्रसाद बोस, पूर्व सांसद रामनाथ दुबे, आचार्य बाबूलाल गर्ग, डा. श्याममोहन त्रिापाठी, करुणाशंकर द्विवेदी, महन्त ओंकारदास, महन्त रामदुलारे दास, चन्द्रशेषर मिश्रा, मदन गोपाल शुक्ला, पूर्व विधायक भैरों प्रसाद मिश्रा, बलदेव प्रसाद अग्रवाल, राजेश करवरिया, राम प्रकाश श्रीवास्तव, मो. यूसुफ, प्रशान्त करवरिया, देवीदयाल यादव, गौरी शंकर गर्ग, कलीमुद्दीन बेग आदि लोग मौजूद रहे।

NO COMMENTS