सुप्रीम कोर्ट की “अवैध धर्मस्थल” निर्माण पर राज्यों को चेतावनी

0
172

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को राज्यों को चेतावनी दी कि यदि वे सार्वजनिक स्थानों पर मंदिर, मस्जिद और गिरिजाघरों जैसे धर्मस्थलों के नये सिरे से निर्माण को अनुमति देते हैं तो वे गंभीर समस्या में रहेंगे और नतीजे भुगतने होंगे।

न्यायमूर्ति दलवीर भंडारी और न्यायमूर्ति ए़क़े पटनायक की पीठ ने राज्यों- केंद्रशासित प्रदेशों को 29 सितंबर के अपने निर्देश पर कार्यपालन रिपोर्ट दाखिल करने का भी निर्देश दिया, जिसमें प्रार्थना के नये स्थानों के निर्माण पर प्रतिबंध लगाया गया था। अदालत ने कहा कि इसमें विफल रहने पर संबंधित मुख्य सचिव-प्रशासक चार फरवरी को निजी तौर पर अदालत में पेश होंगे। शीर्ष न्यायालय ने मुख्य सचिवों, प्रशासकों को इस निर्देशों को हल्के में नहीं लेने की भी चेतावनी दी।

सार्वजनिक स्थलों पर अवैध कब्जा कर पूजाघर बनाने के खिलाफ कोर्ट की मुस्तैदी स्वागत योग्य है। अदालत ने सभी राज्यों को आदेश दे रखा है कि जिला कलेक्टर इस बात की निगरानी करें कि किसी सार्वजनिक स्थल पर अवैध कब्जा कर मंदिर, मस्जिद, गिरिजाघर या गुरद्वारा न बनाया जाए।

अदालत का यह भी कहना है कि जहां अवैध कब्जा कर इस तरह निर्माण हो चुका है, उसे स्थानीय प्रशासन एक-एक मामले को देख कर निपटाए। हमारे देश में सार्वजनिक स्थलों पर अवैध कब्जा कर पूजा घर बनाने की प्रवृत्ति एक राष्ट्रीय बीमारी का रूप ले चुकी है और इसके लिए किसी बेहद कुशल डॉक्टर की निगरानी में लंबे इलाज की जरूरत है। जो अवैध निर्माण पहले हो चुके हैं, वे आगे के निर्माण का आधार बनते हैं। लेकिन जैसे ही उन्हें हटाया जाने लगता है, मामला धार्मिक भावनाओं से होते हुए सामुदायिक और सांप्रदायिक तनाव तक पहुंच जाता है।

इस चुनौती के आगे प्रशासन अमन की दुहाई देकर अक्सर हाथ खड़े कर देता है। कई बार अवैध कब्जा कर बने पूजास्थलों के चलते सड़क, पुल और फ्लाईओवर अपना रास्ता बदल देते हैं। हालांकि इस तरह के तथ्य भी हैं कि ढांचागत निर्माण के लिए जब जमीन का अधिग्रहण किया जाता है तो उसमें पहले से बने हुए कई पूजास्थलों को या तो हटाना पड़ता है या फिर वे खत्म हो जाते हैं। इसीलिए सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकारों को हर मामले पर अलग से विचार करने को कहा है।

लेकिन सुप्रीम कोर्ट एक कुशल डॉक्टर के रूप में इस बीमारी के इलाज में तभी सफल हो सकता है, जब राज्य सरकारें, प्रशासन और राजनीति भी भावनात्मक आग्रहों से ऊपर उठ कर धर्मनिरपेक्ष मानसिकता से कानून और व्यवस्था की हिफाजत करें। अगर ऐसा नहीं किया गया तो इस तरह के आदेश को पक्षपातपूर्ण तरीके से लागू किए जाने के खतरे हैं। निष्पक्षता को दरकिनार करने वाली सरकारें इसकी व्याख्या अल्पसंख्यकों के खिलाफ कर सकती हैं। लेकिन यहां सरकार और प्रशासन से कम जिम्मेदारी नागरिकों की नहीं है। जरूरत इस बात की है कि देश का नागरिक सार्वजनिक स्थल की महत्ता को स्वीकार करते हुए उसे किसी पूजाघर से ज्यादा पवित्र माने।

Vikas Sharma
bundelkhandlive.com
E-mail :editor@bundelkhandlive.com
Ph-09415060119

NO COMMENTS