सरकारी योजनाओं में पारदर्शिता के लिए सभी को मन व चरित्र पर काबू पाना होगा : जिलाधिकारी

0
273

चित्रकूट संसद में आए विचारों पर होगा मन्थन
सरकारी योजनाओं का लाभ लेने के लिए सभी को एकजुट होना पड़ेगा। अलग-अलग योजनाओं का लाभ मांगने से किसी की भी सुनवाई नहीं होती। और लोग योजनाओं का लाभ लेने से वंचित रह जाते हैं। समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने के लिए शिक्षित और युवा वर्ग को राजनीति के क्षेत्र में आगे आना होगा। जब तक पढ़े लिखे सभ्य समाज के लोग आगे नहीं आएंगे तब तक समाज का सुधार नहीं होगा। ग्राम्य विकास मंत्री ने अपने विचार रखते हुए संसद में आए सुझावों पर जल्द ही अमल करने का आश्वासन दिया। 23ckt4

भगवान राम की तपस्थली रहे तीर्थ क्षेत्र चित्रकूट के साथ पूरे जिले के विकास को लेकर अखिल भारतीय समाज सेवा संस्थान रानीपुर भट्ट में चित्रकूट संसद का आयोजन किया गया। जिसमें समाजसेवी आलोक द्विवेदी ने अध्यक्ष की भूमिका निभाई। इनके साथ ग्राम्य विकास मंत्री दद्दू प्रसाद व जिलाधिकारी विशाल राय भी मंच में मौजूद रहे। विकास के लिए रखे गए आर्थिक, शैक्षिक, सामाजिक व राजनैतिक सहित 21 बिन्दुओं पर चर्चा करने के लिए जिले के जनप्रतिनिधि, शिक्षाविद, तथा अन्य प्रबुद्ध वर्ग के लोगों सहित कई विभागों के अधिकारी भी मौजूद रहे। सबसे पहले संस्था द्वारा प्रश्नपत्र के माध्यम से लोगों द्वारा प्रस्तुत किए गए सुझावों को पढ़ा गया। इसके बाद उपस्थित लोगों के विचार सुने गए। लोगों ने  पवित्र मन्दाकिनी के प्रदूषण को रोकने के लिए मन्दाकिनी किनारे सीवर लाइन की व्यवस्था कराए जाने, जल संचयन के लिए बांधों का सीवेज रोकने, लघु डेयरी उद्योगों के लिए प्रोत्साहित करने, मुख्यालय स्थित महाविद्यालय में शिक्षकों की कमी को दूर करने, शैक्षिक स्तर का सुधार करने के लिए मानिटरिंग की व्यवस्था करने आदि पर सुझाव दिए गए। कुछ लोगों ने विभिन्न सरकारी योजनाओं में हो रही धांधली को समाप्त करने के लिए सूचना अधिकार कानून में पारदर्शिता लाने का सुझाव दिया। खादी ग्रामोद्योग की योजनाओं की जानकारी देकर ग्रामीण स्तर पर लघु उद्योगों को स्थापित कर लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए भी सुझाव आए।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के आलोक पाण्डेय ने अनुसूचित जनजाति व आदिवासी छात्रो के लिए सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए छात्रावासों में सुविधा के अभावों पर चर्चा करते हुए कहा कि इसके रखरखाव की जिम्मेदारी समाजकल्याण विभाग की होती है। विभाग द्वारा इस ओर किए गए कार्यों की भी मानीटरिंग कराई जानी चाहिए। उपस्थित लोगों के सुझावों को सुनने के बाद जिलाधिकारी ने अपने विचार रखते हुए कहा कि किसी भी क्षेत्र के विकास में सबसे बड़ी बाधा जनसंख्या वृद्धि है। यदि हम अपने गांव, जिले व प्रदेश का विकास चाहते हैं तो सबसे पहले हमें जनसंख्या वृद्धि पर काबू पाना होगा। उन्होंने कहा कि चित्रकूट का पूरा क्षेत्र भगवान राम की तपस्थली रहा है इसी से लोग यहां धार्मिक भावनाओं से प्रेरित होकर यहां आते है। इसके लिए यदि इस क्षेत्र का विकास करना है तो सबसे पहले यहां की सड़कों को सुधारना होगा। जिसके लिए पहल चल रही है। उन्होंने कहा कि पयर्टन विकास को बढ़ावा देने के लिए एयरपोर्ट का निर्माणकार्य भी शीघ्र पूरा करा इसे लोगों के लिए खुलवाए जाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होने कहा जब एयरपोर्ट चालू हो जाएगा तो यहां विदेशी पर्यटकों का आना और अधिक हो जाएगा। जिससे यहां के बेरोजगारों को रोजगार के अवसर मिलने लगेंगे। भ्रष्टाचार रोकने की बात पर उन्होंने कहा कि इसके लिए हम सभी को जागरूक होना पड़ेगा। इसके अलावा उन्होंने जनप्रतिनिधियों व सरकारी कर्मियों को निशाना बनाते हुए कहा कि सरकारी योजनाओं में हो रही घपलेबाजी को कम करने के लिए अपने मन व चरित्र पर काबू करना अति आवश्यक है। ग्रामीण स्तर पर चलाई जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं के लिए धन मुख्यालय से सीधे ग्राम पंचायतों के खातों में जाता है।

जब तक ग्राम प्रधान व अन्य सम्बंधित लोग पारदर्शिता नहीं बरतेंगे तब तक ग्रामीणों को इनका लाभ नही मिलेगा। उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा दिए गए सुझावों पर विचार विमर्श कर क्रियान्वयन करने की कार्रवाई की जाएगी।  इसी बीच अनुपम मिश्र ने इस तरह के आयोजनों को तहसील व ग्राम स्तर पर भी चलाए जाने का सुझाव दिया। सीडीओ भारत यादव ने आदिवासी कोलों के विकास के लिए सुझाव देते हुए कहा कि इन्हें भी अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में शामिल किया जाना चाहिए। डीएफओ बी के चोपड़ा ने कहा कि जिले का एक चौथाई भाग वनों से आच्छादित है। जलाउ लकड़ी, व वनउपजों को आदिवासियों के हितों को ध्यान में रखते हुए इनके उपयोग पर सरकार द्वारा छूट दी गई है। लेकिन कुछ लोगों द्वारा इसका लाभ उठाकर वनों का क्षरण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि वन ही नहीं रहेगे तो यहां जल संचयन कैसे होगा। उन्होंने कहा कि वन विभाग द्वारा लगाए गए पौधों के संरक्षण के लिए सभी को जागरूक होना पड़ेगा। मध्यप्रदेश चित्रकूट परिक्षेत्र विधायक सुरेन्द्र गहरवार ने कहा कि चित्रकूट प्रतिनिधि होने के नाते वे इसके विकास के लिए हर सम्भव प्रयास करने में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने नदी संरक्षण योजना के तहत मन्दाकिनी नदी की सफाई के लिए 6 करोड़ रुपये दिए हैं। शीघ्र ही काम होगा।

दीनदयाल शोध संस्थान के प्रधान सचिव डा. भरत पाठक ने कम टुगेदर, सिट टुगेदर, थिंक टुगेदर का विचार रखते हुए कहा कि यहां के विकास के लिए हम सभी को एक साथ मिल बैठ कर कार्ययोजना बनानी होगी तभी सफलता मिलेगी। अन्त में ग्राम्य विकास मंत्री दद्दू प्रसाद ने कहा कि यह जिला कृषि आधारित है। यहां वैज्ञानिक खेती को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। तभी यहां का किसान उन्नति कर सकेगा। राजनीति में व्याप्त भ्रष्टाचार को दूर करने के नाम पर उन्होंने कहा कि जब तक शैक्षिक व युवा वर्ग इस क्षेत्रा में आगे नही आएगा तब तक इस ओर सुधार नहीं होगा। उन्होंने कि कुशल श्रमिक कम होते जा रहे हैं इसके लिए सामाजिक संस्थाओं को विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम चला कर ग्रामीणों को तकनीकी रूप से कुशल बनाकर स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराने चाहिए।

श्री गोपाल
09839075109