समाजसेवी संजय वर्मा की जमानत मंजूर. अधिवक्ताओ और व्यापारियों में ख़ुशी की लहर …..

0
150

t_11-41

समाजसेवी एड. संजय वर्मा को हत्या के फर्जी केस मे जेल भेजने के मामले में माननीय उच्च न्यायलय ने जमानत मंजूर कर ली
गौरतलब है की प्रियंका बुधोलिया की स्वाभाविक मौत में पुलिस दुवारा फर्जी 302 में संजय वर्मा को जेल भेज दिया था मृतका प्रियंका बुधौलिया पत्नी स्व0 आनन्द बुधौलिया बोन कैंसर की मरीज थी व हार्ट पेशेन्ट भी थी एवं प्रियंका बुधौलिया की अपनी बीमारी के कारण स्वभाविक मृत्यु हुई थी जिसके चलते उसके परिवारजनों ने ना तो पोस्टमार्टम कराया और ना ही कोई अन्य कार्यवाही की थी । वल्कि नवाबाद थाने में मृतका प्रियंका के जेठ ,भाई और दो लोगो ने लिखित सूचना दी थी की प्रियंका की मौत स्वाभाविक हुई और अंतिम संस्कार कर दिया गया है। इतना सब होने के वावजूद एक माह सात दिन बाद पुलिस उसी सामान्य मौत के मामले में मुकदमा लिखती है जिसमे महिला की मौत उसकी बीमारी के चलते स्वभावित तौर पर हुई थी। ऐसे में पुलिस के सामने उसकी कार्य प्रणाली पर कई सवाल खड़े हो गये थे।

fb_img_1446539538503

इस मामले की अर्जी जब उच्च न्यायलय इलहाबाद में दी गई तो जमानत की सुनवाई दिनांक 28 अक्टूवर को लगभग दो घंटे चली दूसरी तारीख 30 अक्टूवर को पड़ी जिसमे माननीय न्यायलय के समकक्ष संजय वर्मा के अधिवक्ता गोपाल स्वरुप चतुर्वेदी,मुरलीधर मिश्रा और व्यास ने अपना पक्ष रखते हुए वो सभी कागजाद पेस किया जिससे संजय वर्मा पर लगाये गए झूठे मुक़दमे की पोल खुलती है , वही दुसरे पक्ष (प्रियंका) की और से एम.सी मिश्रा सहित पन्द्रा वकीलों ने पेरवी की न्यायलय को 15 अधिवक्ता कोई भी ऐसा एविडेंस (सबूत) माननीय कोर्ट को नहीं दे सके जिससे ये सावित हो की प्रियंका की मौत एक सामान्य मौत नही वल्कि हत्या थी , कोर्ट बार बार सबूत प्रस्तुत करने को बोलती रही मगर विपक्ष की ओर से पंद्रा वकील सबूत नहीं दे सके वल्कि हड़वड़ी में
मृतका के इलाज सम्बंधित डाक्टर का वो पर्चा जिसमे प्रियंका की बीमारी केंसर का जिक्र था कोर्ट में पेस कर दिया , और ये भी स्वीकार किया की वो लिखित सूचना पत्र नवाबाद थाने में दिया था जिसमे की प्रियंका की स्वाभाविक मौत का उल्लेख था और अंतिम संस्कार कर दिया गया है, लिखा था
इस सभी तथ्यों के आधार पर माननीय कोर्ट श्री भरत भूषण की कोर्ट ने संजय वर्मा की जमानत अर्जी को स्वीकार कर लिया , हलाकि इस मामले में उच्य न्यायलय के अधिवक्ता ने बताया कि इस मामले से सम्बंधित एविडेंस को देखते हुए झाँसी में ही न्याय मिल जाना था। ऑर्डर कोपी झाँसी आते ही संजय वर्मा बुधवार या गुरूवार तक बाहार आ जायेंगे .इस बात से झाँसी के अधिवक्ताओ और व्यापारियों में ख़ुशी है और सभी से जुवान पर एक की बात है. की सच्चाई की जीत हुई .

NO COMMENTS