सब्जियों के दाम भी बढ़े

0
166

बांदा- तापमान के साथ सब्जियों के दाम भी बढ़े हैं। आलू छह रुपये प्रति किलो से बढ़कर दस रुपये किलो बिक रहा है। हरी सब्जियों के भाव भी आसमान छू रहे हैं। वहीं कुछ सब्जियों के दामों में कमी भी हुई है। शहर की सब्जी मंडी अब बाहरी आवक पर ही निर्भर है। केन नदी में पानी कम होने से उसके किनारे उगायी जाने वाली सब्जियां अब काफी कम मात्रा में शहर तक आ पा रही है।
यहां गर्मियों के अलावा अन्य सीजन में सब्जियों के दाम सस्ते रहते हैं। इसके पीछे केन नदी के किनारे लगाई जाने वाली सब्जियों की बारियां है। जहां भारी मात्रा में ग्रामीण हरी सब्जियां उगाते है। जो गर्मियों में मुरझाने लगती है। इस साल भी बारियां मुरझाई तो सब्जियों के दाम आसमान छूने लगे। ग्राहकों की भीड़ सब्जी मंडी में कम ही दिखाई देती है। सब्जियों के दामों में एक महीना पहले के भाव में गौर करे तो आलू 30-35 रुपये प्रति पसेरी की जगह 50 रुपये पसेरी बिक रहा है। प्याज के दाम में दस रूपये की कमी आयी है। वह 40 रूपये प्रति पसेरी है। लौकी तीन रूपये की जगह पांच रूपये में तो कद्दू तीन रूपये से चढ़कर आठ रूपये प्रति किलो बिक रहा है। तरोई 20 रूपये, करेला 12 रूपये, भिंडी 17 रूपये किलो बेंची जा रही है। बैगन 30 रूपये से चढ़कर 50 रूपये प्रति पसेरी और टमाटर पांच रूपये के स्थान पर 8 रूपये प्रति किलो बिक रहा है। यहां फतेहपुर, कानपुर, बिंदकी, चिल्ला से सब्जियां आती है, वही बिक रही है। सहालग वाले दिन को छोड़कर बिक्री भी ज्यादा नही होती। भाव में उतार-चढ़ाव आवक पर निर्भर है।