सजायाफ्ता कैदियों को नैनी भेजा जाये

0
158

महोबा- जिला जज, डीएम और एसपी ने बुधवार को जिला जेल का संयुक्त निरीक्षण किया। जेल में एक कैदी ने पुलिस की अमानवीय यातना की दास्तान सुनायी। इसके बाद सभी अधिकारियों ने जेल में भोजन की गुणवत्ता देखी। उन्होंने नवरात्र का व्रत कर रहे कैदियों के फलाहार की समुचित व्यवस्था करने की हिदायत भी जेल प्रशासन को दी।

जिलाधिकारी वी वी पंत और एसपी मंजिल सैनी के साथ जिला जेल पहुंचे जनपद न्यायाधीश अनिल कुमार शर्मा ने तीन साल या इससे ज्यादा अवधि के निरुद्ध कैदियों का विवरण तलब कर इनके मामलों में त्वरित कार्रवाई करने की हिदायत मुख्य दंडाधिकारी आलोक पांडेय को दी। जेलर महावीर पाल को निर्देश दिया कि सजायाफ्ता कैदियों को अविलंब सेंट्रल जेल नैनी भेजा जाये। इसके बाद जेल के प्रशासन व व्यवस्थाओं का जायजा लेने के बाद रसोई घर में जा भोजन की गुणवत्ता परखी। पूछा कि नवरात्र का व्रत कर रहे कैदियों के लिए क्या व्यवस्था की गयी है। जेलर ने बताया कि व्रत कर रहे सभी बारह कैदियों को प्रतिदिन एक पाव दूध व चार केले दिये जा रहे हैं। निरीक्षण के दौरान ही यहां निरुद्ध कैदी कमलेश अवस्थी ने पुलिस की अमानवीय यातना की दास्तां सुना अधिकारियों को चौंका दिया। उसने बताया कि वाहन चोरी कबूल करने के लिए पुलिस ने उसके गुप्तांग में पेट्रोल डाला। अधिकारियों के निर्देश पर जेल के चिकित्सक आर बी आर्या इसकी पुष्टि की। जिला जज ने इसे अविलंब जिला चिकित्सालय ले जा आपरेशन व समुचित इलाज करने की हिदायत दी। इसके बाद उसे चिकित्सालय ला उपचार किया गया। पुलिस अधीक्षक ने इसे मामले की जांच करा दोषी पुलिस वालों पर प्रभावी कार्रवाई का आश्वासन दिया है।