शादी अनुदान योजना में आवंटित धनराशि का शत-प्रतिशत वितरण 30 जून तक

0
272

शैक्षणिक संस्थानों के मास्टर डाटा 15 जुलाई तक तैयार करें

मान्यता प्राप्त मदरसों की सूची एक सप्ताह में उपलब्ध कराये

अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम के महा प्रबन्धक लेखा श्री मसउद अख्तर को प्रतिकूल प्रविष्टी
-अनीस अहमद खॉं
लखनऊ –   उत्तर प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण एवं हज राज्य मन्त्री (स्वतन्त्र प्रभार) श्री अनीस अहमद खॉं उर्फ फूल बाबू ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे अल्पसंख्यक छात्र/छात्राओं की छात्रवृत्ति का वितरण निर्धारित समय-सीमा के भीतर कराये। उन्होंने कहा कि शादी अनुदान की धनराशि का वितरण भी 30 जून तक कराया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि सरकार अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र/छात्राओं के शैक्षिक स्तर को ऊपर उठाने के लिए पूरी तरह कटिबद्ध है।

अल्पसंख्यक कल्याण एवं हज राज्य मन्त्री (स्वतन्त्र प्रभार) श्री अनीस अहमद खॉं उर्फ फूल बाबू आज यहां तिलक हाल में विभागीय कार्यों की समीक्षा के दौरान यह बात कहीं। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र/छात्राओं में शिक्षा के प्रति रूझहान बढ़ा है। इसका परिणाम देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व दशम छात्रवृत्ति योजना के अन्तर्गत वर्ष 2008-09 में 30 लाख छात्रों को लाभािन्वत किया गया था जो वर्ष 2009-10 में बढ़कर 34 लाख छात्र लाभािन्वत हुए इसी प्रकार दशमोत्तर छात्रवृत्ति योजना के अन्तर्गत वर्ष 2008-09 में 1.19 लाख छात्र/छा़त्राओं को लाभािन्वत किया था जो वर्ष 2009-10 में बढ़कर 1.44 लाख हो गया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि छात्रवृत्ति वितरण प्रक्रिया निर्धारित कर दी गई है, वे निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार छात्रवृत्ति वितरण की तैयारी पूर्व से ही कर लें। उन्होंने बताया कि समस्त शैक्षणिक संस्थानों में 31 अक्टूबर तक प्रवेश के लिये जायेंगे और छात्रवृत्ति हेतु मांग पत्र वर्ष में दो बार में प्रस्तुत किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि गत वर्ष से उत्तीर्ण होकर अगले कक्षा में प्रवेश लेने वाले छात्र/छात्राओं के मांग पत्र 15 अगस्त तक तथा नये छात्र/छात्राओं के प्रवेश होने पर उनके मांग पत्र 30 नवम्बर तक ही लिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा निर्धारित तिथियों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाय। अधिकारी यह भी सुनिश्चित कर लें कि शैक्षणिक संस्थाओं के मास्टर डाटा 15 जुलाई तक बना लिया जाये ताकि कोई पात्र संस्था छूटने न पाये तथा कोई गलत संस्था जो चालू नहीं हैं वह मास्टर डाटा में सम्मिलित न होने पाये।

श्री खान ने कहा कि प्रदेश में मान्यता प्राप्त मदरसों का विवरण रखने के उद्देश्य से निर्धारित प्रारूप पर एक सप्ताह में सूचना निदेशालय को प्रेषित कर दिया जाये, इसमें किसी प्रकार की शिथिलता बर्दास्त नहीं की जायेगी। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्य समुदाय के गरीबी रेखा के नीचे जीवन-यापन करने वाले परिवारों की पुत्रियों की शादी हेतु अनुदान योजना के अन्तर्गत 6 करोड़ रुपये आवंटित की गई है। जिसमें मात्र 01 करोड़ रुपये व्यय किये गये गये हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर शादियॉं मई-जून में ही होती हैं। उन्हें समय से धनराशि मिल सके यही योजना का मुख्य उद्देश्य हैं। उन्होंने कहा कि आवंटित धनराशि प्रत्येक दशा में पात्र परिवार के पुत्रियों को 30 जून तक उपलब्ध करा दिये जाये।  अल्पसंख्यक वर्ग के युवक/युवतियों को नगरी क्षेत्रों में स्वरोजगार स्थापित कराने हेतु उ0प्र0 अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम द्वारा संचालित “मान्यवर श्री काशी राम जी अल्पसंख्यक रोजगार योजना´´ की समीक्षा में प्रगति ठीक न होने पर महाप्रबन्धक लेखा श्री मसउद अख्तर को प्रतिकूल प्रविष्टी अंकित करने के निर्देश दिये।

इस अवसर पर प्रमुख सचिव अल्पसंख्यक एवं वक्फ श्री बी.एम.मीना एवं विशेष सचिव श्री विमल चन्द्र श्रीवास्तव, निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण श्री शहाबुद्दीन, समस्त जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी तथा अन्य अधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com