रामायणम् महोत्सव 28 अक्टूबर से

0
93

चित्रकूट- डा. लोहिया ने धर्म की इस नगरी में बैठकर रामायण मेले की संकल्पना कर श्री राम चरित मानस को समाजवाद बढ़ाने की दिशा में सबसे बड़ा ग्रंथ माना था। यह बात और रही कि उनके जीते जी रामायण मेला तो नही हुआ पर उनके डाले गये बीज ने पुष्पित और पल्लवित होने में थोड़ा समय लिया। अब इसके सैतीसवें सोपान पूरे हो जाने के बाद मध्य प्रदेश शासन ने भी रामायणम् आयोजित करवाने की पहल की है।

28 अक्टूबर से होने वाले रामायणम् महोत्सव में म.प्र. के मुख्यमंत्री समेत आधा दर्जन मंत्रियों, साहित्यकारो, कथाकारो, संगीतकारों व कलाकारों का जमावड़ा होगा। कार्यक्रम के लिये विशाल स्टेज व पंडाल के अलावा अन्य तैयारियां जोरों पर चल रहीं है।

बुधवार से रामायणम् महोत्सव के आयोजन को विशेष बनाने के लिये म.प्र. के जिला प्रशासन व राज्य पर्यटन विकास निगम के अधिकारी यहां पर डेरा डाल देंगे। महोत्सव का शुभारंभ म.प्र. के लोक स्वास्थ्य एवं यात्रिकी, सहकारिता विभाग मंत्री गौरीशंकर बिसेन करेंगे तो इसका समापन म.प्र. के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया जायेगा। इसके अलावा कई मंत्री, नृत्य, रामलीला व कवि सम्मेलन के कलाकार भी सम्मिलित होंगे।

महोत्सव आयोजन समिति के अनुसार बुधवार को सांसद गणेश सिंह, जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी नरेंद्रानंद, सरस्वती काशी सुमेरु पीठाधीश्वर अखलेश्वरानंद के प्रवचन होगे। सहारनपुर के मशहूर श्री राम दरबार शर्मा बंधु भक्ति रस की गंगा बहायेंगे तो कोलकाता की मधुमिता राय का रामायण पर आधारित नृत्य होगा। गुरुवार को किसान कल्याण व कृषि विकास, पशु मछली पालन मंत्री डा. रामकृष्ण कुसमरिया के मुख्य आतिथ्य में कार्यक्रम की अध्यक्षता विधायक सुरेंद्र सिंह गहरवार करेंगे। इस दौरान बिहार की मानस वक्ता यशोमति व अग्निहोत्री बंधुओं का भक्ति गायन व उड़ीसा की रामलीला कमेटी द्वारा उडि़या रामलीला का मंचन होगा। समापन दिवस शुक्रवार को तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आगमन की खबर है तो सारा शासन व प्रशासन ही वहां मौजूद रहेगा। इसके अलावा राजगुरु स्वामी संकर्षण प्रपन्नाचार्य जी महाराज, वन खनिज साधन,जैव विविधता, विधि और विधायी कार्य विभाग मंत्री राजेंद्र शुक्ल, संस्कृति, जनसंपर्क, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व, जन शिकायत विभाग मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा व राज्य पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष धु्रव नारायण सिंह रहेंगे।

दोपहर दो से पांच बजे के सत्र में राम कथा पर शोध प्रबंधों की प्रस्तुति और परिचर्चा उद्यमिता विद्या पीठ के सभागार में की जायेगी। शाम पांच बजे से सात बजे तक राजगुरु स्वामी संकर्षण प्रपन्नाचार्य जी महाराज के प्रवचन के बाद सात बजे से साढे नौ बजे तक अवध आदर्श राम लीला मंडल अयोध्या द्वारा श्री राम लीला की प्रस्तुति होगी। रामायणम की अन्तिम प्रस्तुति में अशोक भाटी के संचालन में विशाल कवि सम्मेलन होगा।

उ.प्र. सीमा क्षेत्र के चित्रकूट में प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले राष्ट्रीय रामायण मेले की तर्ज पर म.प्र. शासन रामायणम् महोत्सव की शुरूआत करा रहा है। संभव प्रयास किये गये हैं। तैयारियों को लेकर सतना जिले के एडीएम, एसडीएम, तहसीलदार के अलावा दीनदयाल शोध संस्थान के पदाधिकारी व आयोजन समिति के रामहृदय दास, मुन्ना सिंह, महेश गुप्ता, रमाशंकर राजपूत व दीपक पांडेय कार्यक्रम स्थल में मौजूद रहे।

NO COMMENTS