राज्य निर्माण आदोलन अब मुखर होता नजर आ रहा है

0
235

ललितपुर- सालों से सतही तौर पर चल रहा बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण आदोलन अब मुखर होता नजर आ रहा है। लोकसभा चुनाव में प्राय: सभी राजनैतिक दलों ने बुन्देलखण्ड राज्य की माग को जायज ठहराते हुए उसे अपना समर्थन दिया। बुन्देलखण्ड विकास सेना की बैठक में इसे आदोलन की सफलता बताते हुए कहा कि अब आदोलन अंतिम दौर में है। यदि बुन्देलखण्डवासी एकजुट होकर अलग राज्य की हुकार भरे तो सरकार को उनके आगे नतमस्तक होना पड़ेगा।
आजादी के बाद से बुन्देलखण्ड की घोर उपेक्षा की गयी। जिसकी वजह से आज बुन्देलखण्ड विकास की दौड़ में काफी पिछड़ा हुआ है। गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहे बुन्देलखण्ड में लोग जीवन से हताश होकर मौत को गले लगा रहे है। ऐसा नहीं कि बुन्देलखण्ड में किसी चीज का अभाव हो। यहा व्याप्त खनिज व वन सम्पदा का बड़े पैमाने पर दोहन किया गया और इसका लाभ रचमात्र भी बुन्देलखण्ड को नहीं मिला। पुरा सम्पदा का अकूत भण्डार होने के बावजूद यहा का पर्यटन विकास आज तक नहीं हो सका। सालों से चल रहे आदोलन का प्रतिफल अब सामने आने लगा है। लोकसभा चुनाव में सभी राजनैतिक दलों ने बुन्देलखण्ड राज्य का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि राजनैतिक दलों को लगने लगा है कि बुन्देलखण्ड के वाशिन्दे अब अपना अलग राज्य चाहते है। निर्णायक दौर में पहुच चुके आदोलन को पूर्णत: प्रदान करने के लिए अब बुन्देलखण्ड के वाशिन्दों को एकजुट होकर अलग राज्य की माग उठानी होगी।
बैठक में तय किया गया कि अब बुन्देलखण्ड राज्य निर्माण आदोलन स्थानीय क्षेत्रों में सीमित नहीं होगा बल्कि उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश के अलावा देश की राजधानी में धरना प्रदर्शन किया जायेगा।