यातायात माह बीत जाने के बाद भी अतिक्रमण विरोधी मुहिम

0
149

पुलिस अधीक्षक की पहल पर शहर को अतिक्रमण से मुक्त कराने की मुहिम शुरू हो गई। आज मुख्य बाजार में फैला अतिक्रमण हटाया गया। दिन भर चले अभियान में जहां सड़क किनारे रखीं गुमटियां व ठेले हटाये गये वहीं सब्जी विक्रेताओं को सुपर मार्केट में चििन्हत जगह पर पहुंचा दिया गया। कुछ तो स्वेच्छा से बताये गये स्थान पर सामान लेकर पहुंच गये, जो नहीं माने उन्हे आज सबक सिखा दिया गया। क्षेत्राधिकारी सदर के नेतृत्व में सड़क किनारे रखी दुकानों और गुमटियों को हटाया गया। साथ ही चेता दिया कि दोबारा अतिक्रमण किया तो सख्त कार्यवाही होगी।

यातायात माह बीत जाने के बाद भी अतिक्रमण विरोधी मुहिम नहीं चलने से जहां अतिक्रमणकर्ताओं ने राहत की सांस ली थी वहीं अतिक्रमण के कारण परेशान आम जनता बेहद परेशान हो रही थी। पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरी ने रणनीति के तहत मुख्य मार्गो पर फैले अतिक्रमण को हटाने के लिये पुख्ता रणनीति बनाई। उन्होंने पहले व्यापारियों, दुकान संचालकों की बैठक बुलाई और उन्हे जनहित में स्वेच्छा से अतिक्रमण हटाने का आºवान किया। योजना के तहत नझाई बाजार और तहसील के सामने बैठे सब्जी विक्रेताओं को सुपर मार्केट में दुकान लगाने की जगह दी। साथ ही व्यवस्था की गई कि इधर-उधर खड़े रहने वाले हाथ ठेला वालों को कम्पनी बाग के सामने खड़ा किया जाये। इसके अलावा चार पहिया वाहन सदनशाह की दरगाह के निकट गिन्नौट बाग में खड़े करने और दो पहिया वाहनों के पािर्कग की व्यवस्था नगरपालिका भवन के तलघर में कर दी गई। इस पर सख्ती से अमल हो इसके लिये मंगलवार 14 दिसम्बर को पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर शहर में मुनादी भी करवा दी। पुलिस अधीक्षक कुलहरी ने स्वयं भी मौके पर पहुचकर अतिक्रमणकर्ताओं से चर्चा की और उन्हे निर्धारित स्थान पर ठेला व दुकानें लगाने की हिदायत दी। आज सुबह लगभग 7 बजे से पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर क्षेत्राधिकारी सदर भान प्रकाश सिंह के नेतृत्व में कोतवाली प्रभारी सुरेश बाबू और पुलिस बल ने कम्पनी बाग, नझाई बाजार के बाहर फल-सब्जी विक्रेता, तहसील के सामने सब्जी विक्रेताओं को हटाया। कुछ ने तो स्वेच्छा से अतिक्रमण हटा लिया और जो नहीं माने उन्हे पुलिस ने बलपूर्वक हटा दिया। नझाई बाजार के बाहर फल विक्रेताओं द्वारा किये गये पक्के अतिक्रमण को भी पुलिस ने हटवा दिया। इसके अलावा घण्टाघर सदर कांटा क्षेत्र में भी सड़क किनारे ठेला लगाने वाले और दुकानों के बाहर सामान रखने वालों को हड़काया गया। घण्टाघर, सदर कांटा और पानी की प्याऊ के आसपास चाट-पकौड़ी की दुकान लगाने वालों ने पुलिस बल को देखकर स्वेच्छा से जगह खाली कर दी। कुछ दुकानदारों ने सड़क किनारे गुमटियां रख ली थीं, जिन्हे पुलिसकर्मियों ने बलपूर्वक हटा दिया तो कुछ दुकान संचालक कार्यवाही से बचने के लिये खुद ही गुमटी लेकर सुरक्षित स्थान पर पहुच गये। सुबह लगभग 11 बजे डिप्टी कलेक्टर और नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी यूपी सिंह के नेतृत्व में पालिका की जेसीबी मशीन से तहसील के सामने, नझाई बाजार के मुख्य प्रवेश द्वार और कम्पनी बाग के सामने फैला पक्का अतिक्रमण तोड़ा गया। नई व्यवस्था के तहत नझाई बाजार के मुख्य प्रवेश द्वार के बाहर सब्जी विक्रेताओं को सुपर मार्केट में जगह दी गई है। प्रत्येक दुकानदार को सब्जी की दुकान लगाने के लिये बाकायदा चूना डालकर लाइनिंग कर दी गई, ताकि झगड़ा-फसाद की स्थिति निर्मित न हो। अधिकांश सब्जी विक्रेता तो मौके की नजाकत को देखते हुये उक्त स्थान पर पहुच गये, लेकिन कुछ ने दुकान बन्द रखा ही उचित समझा। अतिक्रमण विरोधी मुहिम की भनक लगते ही नझाई बाजार के बाहर ठेला लगाकर फल विक्रेताओं ने स्वेच्छा से कम्पनी बाग के बाहर रैलिंग के सहारे निर्धारित स्थान पर व्यवसाय करना शुरू कर दिया। जिन दुकानदारों ने वापस से अतिक्रमण करने की कोशिश की उन्हे पुलिस ने सबक भी सिखा दिया। मुहिम की खास बात यह रही कि इस बार किसी ने इसका विरोध नहीं किया, जबकि बीते वर्ष अतिक्रमण विरोधी दस्ते को जबरदस्त विरोध का सामना करना पड़ा था। कार्यवाही के दौरान एसआई उदय भान सिंह, सुभाषचन्द्र, ईश्वरदयाल तिवारी, सदर चौकी प्रभारी सुभाष यादव, यातायात प्रभारी के.के. शर्मा, कोबरा टीम के अलावा लाइन का रिजर्व पुलिस बल और बड़ी संख्या में पुलिस जवान शामिल रहे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

NO COMMENTS