मानपुर-मड़फा संपर्क मार्ग की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग

0
223

चित्रकूट –  पीडब्ल्यूडी द्वारा करवाए जा रहे निर्माण कार्यों में जहां एक ओर घटिया निर्माण सामग्री का प्रयोग कर लोग मालामाल हो रहे हैं वहीं दूसरी ओर कुछ अधिकारियों की मिलीभगत से ठेकेदार सरकार के निर्धारित शेड्यूल से अधिक दर पर टेण्डर ले सरकार को लाखों रुपये का चूना लगाया जा रहा है। समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष ने पीडब्ल्यूडी विभाग के लोगों द्वारा की जा रही धांधली की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है।

समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष राजबहादुर यादव का कहना है कि मड़फा गांव में पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा मानपुर-मड़फा संपर्क मार्ग का निर्माण कार्य करवाया जा रहा है।  करोड़ों की लागत से बनने वाले इस मार्ग का जिम्मा लेने वाला ठेकेदार अपनी इच्छानुसार काम करवा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा काम करवाने वाले ठेकेदार ने अपने उच्च अधिकारियों से सांठ गांठ कर विभाग के शिड्यूल रेट्स से लगभग 49 प्रतिशत अधिकर दर पर टेण्डर हासिल किया है। इतना ही नहीं टेण्डर की शर्तों के विपरीत घटिया निर्माण सामाग्री का प्रयोग किया जा रहा है। टेण्डर की शर्त थी कि इस मार्ग के निर्माण में लोढ़वारा की मोरम लगाई जाए  परन्तु  ठेकेदार अधिकारियों से सांठगांठ कर समीप ही स्थित पहाड़ से अवैध खनन कर  घटिया किस्म की मोरम का प्रयोग कर रहा है। इसके अलावा ठेकेदार मनमानी के चलते स्थानीय मजदूरों के स्थान पर ज्यादातर काम जेसीबी मशीनों से करवाता है। जिसके कारण  ग्रामीण मजदूरों को काम भी नहीं मिल पा रहा और मनरेगा जैसी महत्वाकांंक्षी योजना हवाहवाई साबित हो रही है। सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष श्री यादव का कहना है कि लगभग ढाई करोड़ की लागत से 6 किमी लंबाई तक बनने वाले इस संपर्क में ठेकेदार द्वारा की जा रही अनियमितताओं की शिकायत कई बार प्रशासनिक अधिकारियों से की गई। लेकिन जांच के नाम शिकायत को ठण्डे बस्ते में डाल दिए जाने के कारण उसका कोई नतीजा नहीं निकला। और ठेकेदार अपने अधिकारियों की सांठगांठ से मनमानी करने में जुटा हुआ है। उन्होंने शासन से उच्च स्तरीय जांच करवाए जाने की मांग की है।