महोबा पेयजल पुनर्गठन योजना अन्तिम चरण मे

0
221

महोबा – महोबा पेयजल पुर्नगठन योजना के तहत अब मार्च माह के अन्तिम  हफ्ते से पानी मिलेगा। जल निगम ने इसकी तैयारियां युद्धस्तर पर शुरू कर दी हैं। उर्मिल बांध से महोबा तक बिछाई गई पाइप लाइन की टेस्टिंग का कार्य अन्तिम चरण पर है।

शहर में मदन सागर सरोवर से पेयजल आपूर्ति की जाती है। गर्मियों में सरोवर सूखने से तीन सालों से पेयजल को लेकर हाहाकार मचता है। इस समस्या से निपटने के लिए उर्मिल बांध से पानी लेकर शहर में सप्लाई के लिए 32 करोड़ की लागत से महोबा पेयजल पुनर्गठन योजना की तीन साल पहले शुरू की गई थी। इस योजना के तहत पूरे शहर में पाइप लाइनों का जाल बिछाया गया है। उर्मिल बांध से श्रीनगर तक पाइप लाइन बिछाकर पानी लाया जा रहा है। कार्यदायी संस्था जल निगम ने श्रीनगर में बने फिल्टर प्लांट तक पानी लाने के बाद श्रीनगर से कलेक्ट्रेट जोन के तहत बनाई गई 2050 किलोलीटर सी.डब्लू.आर में पाइप लाइन से पानी लाने की टेस्टिंग शुरू कर दी है।

जल निगम के अधिशाषी अभियन्ता राजेश कुमार ने जानकारी दी कि पाइप लाइन से  कलेक्ट्रेट जोन के सी.डब्लू.आर को जोड़ा जा रहा है। मार्च के अन्तिम  सप्ताह तक कलेक्ट्रेट जोन में पानी पहुंचाया जाएगा। इसके बाद  कलेक्ट्रेट जोन से कीरत सागर में बने ओवरहेड टैंक एवं मदन सागर सरोवर में बने सी.डब्लू.आर को जोड़कर पानी भरा जाएगा। तीनों टंकियों से महोबा शहर की 60 फीसदी आबादी को पानी  उपलब्ध कराया जाएगा। अप्रैल माह में बलखण्डेश्वर पहाड़ी पर स्थित सी.डब्लू.आर को लिंक कर आपूर्ति चालू करने का खाका तैयार किया गया है। डीएम के निर्देश पर ठेकेदारों के शीघ्र कार्य पूरा करने के लिए जोर दिया गया हैं। टंकियों के भरते ही शहर में बिछाई गई पाइप लाइन की टेस्टिंग कराकर आपूर्ति चालू करा दी जाएगी।