मन्त्री ने दहेज़ के खातिर बेटे की शादी तोड़ दी

0
177

चित्रकूट – दहेज़ प्रथा जैसी सामजिक महामारी को ख़तम करने के भले ही कितने प्रयास किये गए हो लेकिन आज भी दहेज़ का दानव विकराल रूप धारण किये हुए है। सभ्य समाज भी इससे अछूता नहीं बचा है । अब तक ना जाने कितनी बेटियों की जिन्दगी तबाह कर चुकी ये महामारी अब रसूखदारों की बंधक बन गई है । दहेज़ की बलिबेदी पर चित्रकूट में भी एक लड़की की जिन्दगी उस समय तबाह हो गई जब सूबे के एक मन्त्री ने पचास लाख रूपए दहेज़ न दे पाने पर अपने बेटे  की शादी तोड़ दी ,अब पीड़ित लड़की और उसके परिजान न्याय के लिए भटक रहे है ।

हर  मां  बाप  का सपना  होता  है  कि उसकी  बेटी के हांथ  किसी  अच्छे  घर  में पीले  हो जहां  उसे  सुख  मिले  कुछ ऐसा  ही सपना   चित्रकूट के दन्त  चिकित्सक पी.  पी . पाल   ने भी अपनी  बेटी प्रीती   के लिए देखा  लेकिन उन्हें   नहीं मालूम  था  की अपनी  हैसियत  से  कहीं  बड़े  सूबे के कद्दावर  खेल  मन्त्री अयोध्या  पाल  के यहां वो  अपनी  बेटी को ब्याह  रहे है । वो भी उन्हें एक दिन धोखा दे देगा । डाक्टर पाल ने दो साल पहले खेल मन्त्री अयोध्या पाल के बेटे ॐ दत्त पाल उर्फ़ राजू के साथ अपनी बेटी प्रीती की सगाई की थी हैसियत के अनुरूप तीन लाख रूपए नगद और दो लाख रूपए खाने पीने में खर्च किया । मन्त्री ने वादा किया था की फरवरी में शादी कर लेंगे लेकिन दो साल तक किसी न किसी बहाने से शादी लटकाते रहे और जब डाक्टर पाल उनके घर पहुंचे तब उन्होंने कह दिया की पचास लाख रूपए अगर दहेज़ दे सकते हो तो हम शादी करेंगे नहीं हम शादी नहीं करेंगे । लेकिन इतनी रकम प्रीती के पिता कहां से लाते इसी के चलते मन्त्री ने शादी तोड़ दी । अब मजबूर बाप दहेज़ के इन दरिन्दों को सजा दिलाना चाहता है लेकिन उसकी कोई नहीं सुन रहा है । 1ckt7

पढ़ी लिखी खूबसूरत प्रीती की तो मानो जिन्दगी ही उजड़ गई । उसने राजू के साथ जिनदगी बिताने के सारे सपने संजो रखे थे । दो साल तक उसने इसके लिए इन्तज़ार किया ,लेकिन आखिर में वो हार गई दहेज़ के लोभियों के आंगे उसके पिता उन्हें पचास लाख रूपए नहीं दे पाए और उसके एक पल में ही सपने चूर चूर हो गए । प्रीती ने बताया कि उसके पिता ने अपनी हैसियत के हिसाब से सगाई में ही काफी कुछ कर दिया था !आखिर वो इतने बड़े लोग है उन्हें केवल पैसों के लिए तो मेरे साथ ऐसा सलूक नहीं करना चाहिए ,अब मेरा क्या होगा ?1ckt1

खेल मन्त्री अयोध्या पाल ने डाक्टर पाल की बेटी से रिश्ता किस वजह से ठुकराया इसकी वजह तो अभी साफ नहीं हो पायी ,क्योकि प्रीती के परिजन जहां  दहेज़ का आरोप लगा रहे है ,दूसरा पक्ष कुछ भी कहने को तैयार नहीं ,लेकिन खेल मन्त्री अपने बेटे की शादी दूसरी जगह कर रहे है और पीड़ित पिता न्याय के लिए भटक रहा है लेकिन मन्त्री की हनक के आंगे उसकी कोई नहीं सुन रहा । अब देखना है की रसूख के आंगे पीड़ित की पुकार कहां तक पहुंचती है ।

श्री गोपाल

09839075109