मंत्री ने जताई बूथ कैप्चरिंग की संभावना

0
195

बांदा। आम मतदाताओं को लुभाने के लिये जब कोई अस्त्र न बचा तो राजनीतिक दलों ने आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू कर दिया। सपा प्रत्याशी आरके सिंह पटेल और सदर विधायक विवेक सिंह ने जब ग्राम्य विकास मंत्री दद्दू प्रसाद पर सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग का आरोप मढ़ घेरने का प्रयास किया तो जवाब में उन्होंने भी मुख्य निर्वाचन आयोग को पत्र लिख सपा प्रत्याशी पर दस्यु गिरोहों से संपर्क कर बूथ कैप्चरिंग करवाने का आरोप लगाते हुए पैरामिलिट्री, सीआरपीएफ और बीएसएफ लगाये जाने की मांग कर डाली।

बताते चलें कि दो दिन पहले सपा प्रत्याशी ने मंत्री दद्दू प्रसाद पर यह आरोप लगाया था कि वह पार्टी प्रत्याशी को जिताने के लिये गलत हथकंडे अपना रहे है। यदि उन्हे इस संसदीय क्षेत्र में प्रचार करने से न रोका गया तो वह भूख हड़ताल पर बैठेगे। दूसरे दिन सदर विधायक विवेक सिंह ने भी उन पर निशाना साधा था। आरोप लगाया था कि सत्ता का दुरुपयोग करते हुए वह आदर्श आचार संहिता का खुलेआम उल्लंघन कर रहे है।

चौतरफा आरोपों से घिरते जा रहे मंत्री दद्दू प्रसाद ने बचाव में शुक्रवार को मुख्य चुनाव आयुक्त एन गोपालास्वामी को पत्र भेजकर समाजवादी पार्टी प्रत्याशी आरके सिंह पटेल पर दस्यु गिरोहों से संपर्क कर बूथ कैप्चरिंग की योजना बनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि उन पर घटिया व मनगढ़ंत आरोप लगाये जा रहे है। आचार संहिता लागू होने के बाद अधिकारियों के साथ बैठक तो दूर वह किसी से मिले भी नहीं है। रही ग्राम प्रधानों को धमकाने की बात तो अधिकांश ग्राम प्रधान बसपा के समर्थक व प्रचारक है।

सही बात यह है कि सपा का जनाधार खिसक चुका है और उन्हे अभी से अपनी पराजय दिख रही है। उन्हें जानकारी मिली है कि सपा प्रत्याशी के दस्यु सुंदर कुर्मी, सुदेश पटेल उर्फ रागिया, राजा यादव व दीपक पटेल से संबंध है। संसदीय क्षेत्र के थाना बरगढ़, मऊ, रैपुरा, मानिकपुर, बहिलपुरवा, कर्वी, फतेहगंज, कालिंजर व बदौसा में 50 लाख रुपये भाड़े में बूथ कैप्चरिंग कराने का सौदा तय हो चुका है। वह संभावित बूथ कैप्चरिंग वाले मतदान केंद्रों की सूची अलग से उपलब्ध करायेंगे। आयोग से मांग की कि मानिकपुर विधान सभा क्षेत्र की तरह ही दस्यु प्रभावित मतदान केंद्रों में भी सीआरपीएफ, बीएसएफ और पैरामिलिट्री फोर्स लगाई जाये। साथ ही सुरक्षा बलों का फ्लैग मार्च कराया जाये।