भीषण गर्मी से पोलियो बूथों पर पसरा रहा सन्नाटा

0
93

ललितपुर-बच्चों को विकलागता के अभिशाप से मुक्त कराने के उददेश्य से आज पल्स पोलियो अभियान संचालित किया गया। इस अभियान के तहत शून्य से पाच वर्ष आयुवय के 2 लाख 9 हजार 378 बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने का लक्ष्य निर्धारित था लेकिन मौसम की मार का असर आज पल्स पोलियो अभियान पर देखने को मिला। भीषण गर्मी और चटख धूप की वजह से बूथों पर सन्नाटा पसरा रहा। मिली जानकारी के अनुसार करीब 60 फीसदी बच्चों को ही पोलियो की दवा पिलायी जा सकी।

मुख्य विकास अधिकारी बुद्धिराम ने मोहल्ला आजादपुरा स्थित अटल विद्या मन्दिर से पल्स पोलियो अभियान का शुभारम्भ किया। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि बच्चे देश का भावी भविष्य है। पोलियो ऐसी बीमारी है जो बच्चों को अपनी चपेट में लेकर उन्हे ताउम्र के लिए विकलाग बना देती है। सरकार द्वारा बच्चों को विकलागता के अभिशाप से मुक्त कराने के उद्देश्य से पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान तभी सफल होगा जब शत प्रतिशत बच्चे पोलियो की दवा से आच्छादित हो जाएंगे। इसी अभियान का परिणाम है कि आज देश में पोलियो की बीमारी न के बराबर रह गयी है, लेकिन सुरक्षा कवच मजबूत बनाने के लिए शत प्रतिशत कबरेज अति आवश्यक है। उन्होंने नागरिकों से अभियान को सफल बनाने हेतु बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने की अपील की। इस मौके पर मुख्य चिकित्साधिकारी डा.बाल किशन, उप मुख्य चिकित्साधिकारी डा.मुकेश दुबे आदि मौजूद थे।

इधर पल्स पोलियो अभियान को सफल बनाने के लिए दिन भर अधिकारियों की गाड़िया पोलियो बूथों का भ्रमण करतीं रहीं लेकिन मौसम की मार की वजह से अभिभावक अपने बच्चों को लेकर बूथ तक नहीं पहुंचे फलस्वरूप अभियान के दिन करीब 60 प्रतिशत बच्चों को ही पोलियो की दवा पिलायी जा सकी। जिलाधिकारी पवन कुमार ने वंचित रहे बच्चों को हाउस टीमों के माध्यम से डोर-टू-डोर जाकर दवा पिलाने के निर्देश दिये है।

NO COMMENTS