पानी बरसा, ओले गिरे

0
251

भिंड और दतिया में सोमवार को ओले के साथ तेज बारिश हुई। बेमौसम की बारिश से उन किसानों का काफी नुकसान हुआ है जिनका गेहूं इस समय मंडी या खलिहान में है। ग्वालियर और मुरैना में भी बूंदाबांदी हुई है।
दतिया जिले के सेंवढ़ा में शाम पांच बजे तेज बारिश के साथ ओले गिरे । मौसम में अचानक परिवर्तन दोपहर बाद से ही प्रारंभ हो गया था। बादल छाए रहने और बारिश के बाद 20 मिनट की ओलावृष्टि हुई।
भिंड सप्ताह भर से पड़ रही गर्मी से सोमवार की शाम हल्की ओलावृष्टि और बारिश से राहत मिली। जिले में कुछ स्थानों पर बादल छाए रहे तथा एक-दो स्थानों पर हल्की बारिश हुई। दोपहर बाद आसमान में छाए बादलों ने शाम के वक्त तेज हवाओं के बीच बरसना शुरू कर दिया। इससे गर्मी से जूझ रहे लोगों को कुछ राहत मिली। बारिश के दौरान मटर के आकार के ओले भी गिरे।
इसके लगभग आधे घंटे पश्चात एक बार फिर बारिश होने लगी और बेर के आकार के ओले गिरने लगे। यह ओलावृष्टि लगभग दस मिनट तक हुई। दबोह में सुबह के समय बारिश हुई इसके बाद दिन भर बादल छाए रहे और शाम होते-होते एक बार फिर से बारिश होने लगी। इसके अलावा मेहगांव, गोहद, रौन, लहार, फूफ, अटेर, मालनपुर में दिन भर बादल छाए रहे ओर बीच बीच में तेज हवाएं भी चलती रहीं। आसमान पर छाए बादल और हवाओं के साथ हुई हल्की बारिश से लोगों को गर्मी से काफी राहत महसूस हुई है।
मुरैना-शिवपुरी-श्योपुर अंचल के श्योपुर जिले में पूरे दिन बादल छाए रहे। शिवपुरी में मौसम सामान्य रहा। मुरैना जिले के अंबाह के आधा दर्जन गांवों में भी शाम को छोटे साइज के ओले गिरे।