भष्टाचार के आरोपी एसडीएम को 5 साल की जेल

0
154

सागर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम ने एक अहम फैसले में भ्रष्टाचार के आरोपी तत्कालीन एसडीएम को अलग-अलग धाराओं के तहत पाँच साल के सश्रम कारावास व 1500 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।

अभियोजन के मुताबिक रहली में पदस्थ तत्कालीन एसडीएम रामसेवक मिश्रा ने रहली के बडगांव के स्टॉप डैम की जांच रिपोर्ट में फेरबदल करने के एवज में ग्रामीण यांत्रिकी विभाग में तैनात फरियादी दिनेश शर्मा व महेश शर्मा से 30 हजार रुपये की मांग की थी।

इस बात की लिखित शिकायत फरियादी दिनेश सिंह ने लोकायुक्त पुलिस से की। इस सिलसिले में 5 अक्टूबर 2003 को लोकायुक्त पुलिस ने अपनी कार्रवाई में आरोपी को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा था।

मामला कोर्ट में पेश किया गया, जहां विशेष सेशन जज (भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम)एस. के. शर्मा ने अपने फैसले में भ्रष्टाचार के मामले में रामसेवक मिश्रा को भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत 5 साल के सश्रम कारावास व 1500 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है।