भइया मेरे राखी के बंधन को निभाना

0
252

चित्रकूट- भाई बहन के स्नेह पर्व रक्षा बन्धन बुधवार को पूरे जिले में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। पर्व की रौनक पूरे दिन सड़कों में दिखाई दी।बहनों ने भाईयों की कलाई पर रक्षासूत्र बांधकर रक्षाबंधन का त्योहार मनाया और भाईयों ने बहनों की रक्षा का वचन दिया।
रक्षाबंधन के साथ कई ऐतिहासिक घटनायें भी जुड़ी हैं। हुमायुं को कर्मावती की राखी भेजने की घटना चर्चित है। राखी की दुकानों में आज सुबह से ही खरीदने की भीड़ लगी थी, तो मिठाई के दुकानदारों के यहां लोगों को लाइन लगानी पड़ी। सबसे अधिक उत्साह बच्चों में दिखायी पड़ा, जहां छोटी-छोटी बहनों ने भाईयों के माथे में तिलक कर राखी बांधी और भाईयों की लंबी उम्र की कामना की। बहनों ने भाईयों का मुंह भी मीठा कराया। जिले की सभी तहसीलों व ग्रामीण क्षेत्रों में रक्षाबंधन का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इसके साथ ही बालिकाओं ने सुबह मंदाकिनी में कजलियों का विसर्जन कर दिया।

बुधवार को रक्षाबंधन पर्व को मनाने के लिये हर घर में तैयारियां सुबह से ही शुरु हो गयी थी । सुबह से महिलायें व बालिकायें कजली को सिर पर रखकर मंदाकिनी नदी में विसर्जन करने पहुंची। विसर्जन के बाद लाई गयी कजली को भगवान की मूर्तियों पर चढ़ा कर रक्षाबन्धन पर्व की शुरुआत की। सुबह स्नान करने के लिये महिलाओं की भारी भीड़ जुटी। बहनों नें थाल में मिठाई, कुमकुम व रंग बिरंगी राखियों को सजाकर भाइयों के दीर्घायु होने का तिलक लगाया। इसके बाद भाई को राखी बाँध मुँह मीठा कराया। बहनों ने भाई से जीवन पर्यन्त सुरक्षा करने का वचन लिया। साथ ही भाइयों ने बहनों को पैसे व उपहार दिये। त्योहार को लेकर पूरे दिन खासकर छोटे बच्चों में ज्यादा उत्साह देखा गया। त्योहार की रौनक पूरे बाजार में भी देखी गई। जगह-जगह ंराखी व मिठाई की दुकानें सजी थी। घरों में स्वादिष्ट व्यंजन बनाकर त्यौहार को रगींन बनाया गया। रक्षाबन्धन त्योहार पर विद्युत विभाग शहरवासियों के ऊपर मेहरबान रहा। इसी के चलते दिन में होने वाली नियमित कटौती नही की गई।