बुंदेलखंड विशेष पैकेज का सही उपयोग न होने के लिए प्रदेश सरकार को जिम्मेदार

0
171

भारतीय चरागाह एवं चारा अनुसंधान संस्थान के ५० वे  स्थापना दिवस पर  आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने आए केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने संस्थान  द्वार प्रकाशित चारा पत्रिका का विमोचन किया  कहा कि बुंदेलखंड विशेष पैकेज का सही उपयोग न होने के लिए प्रदेश सरकार को जिम्मेदार ठहराया। इस मौके पर उन्होंने सरकार की प्राथमिकता किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाना है। अपने छह साल के कार्यकाल में संप्रग सरकार ने किसानों को गेहूं, चावल तथा अनाज की उपज का मूल्य ज्यादा दिलाया है। उस समय किसानों को गेहूं का मूल्य ६९० रुपये प्रति क्विंटल मिलता था, जो अब बढ़कर ११०० रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। इससे देश में महंगाई बढ़ी है। उन्होंने कहा कि इसके बाद भी सरकार ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से मिलने वाले राशन के दामों में एक पैसे की भी बढ़ोतरी नहीं की, बल्कि सब्सिडी २० हजार करोड़ रुपये से बढ़ाकर ८० हजार करोड़ रुपये कर दी। इसके बाद भी गरीबों तक सस्ता अनाज न पहुंचाने के लिए प्रदेश सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि केंद्र का काम मांग के अनुसार अनाज वितरण करना है। प्रदेश सरकार को चाहिए कि वह गरीबों को तलाश कर उन तक अनाज वितरित करे।

प्याज के दामों में आए उछाल संबंधी सवाल पर सफाई देते हुए शरद पवार ने कहा कि उनके क्षेत्र में सबसे अधिक प्याज उत्पादन होता है, लेकिन इस बार अधिक वर्षा के कारण प्याज की फसल सड़ गई, जिससे बाजार पर असर पड़ा, लेकिन अब स्थिति काबू में है। बुंदेलखंड विशेष पैकेज के दुरुपयोग के सवाल पर उन्होंने कहा कि पैसा रिलीज कर दिया गया है, अब उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि वह इसका सही जगह इस्तेमाल करे।


Vikas Sharma
Editor
www.upnewslive.com , www.bundelkhandlive.com ,
E-mail : vikasupnews@gmail.com  , editor@bundelkhandlive.com
Ph-09415060119