बुंदेलखंड में दुग्ध उत्पादन की पर्याप्त संभावनाएं

0
142

चित्रकूट- प्रदेश के पशुपालन व दुग्ध उत्पादन मंत्री अवध पाल सिंह यादव ने कहा कि  बुंदेलखंड में दुग्ध उत्पादन की काफी संभावनाएं हैं। पशुपालन व दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए सरकार ने प्रभावी कदम उठाये हैं।

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि जिले में दो बल्क मिल्क कूलर खंडेहा व देहरुछ माफी गांव में लगाये जायेंगे। साथ ही आटोमैटिक मिल्क कलेक्शन की 25 यूनिट जिले में लगेगी। मुख्यालय स्थित शासकीय दुग्ध डेयरी की खस्ता हालत के लिए सपा सरकार को दोषी ठहराते हुए कहा कि मुलायम सरकार में डेयरी उद्योग 116 करोड़ के घाटे व 100 करोड़ रुपये के कर्जे में था। बसपा सरकार ने आधा घाटा दूर करके आधे से अधिक धनराशि का भुगतान भी कर दिया है। आजादी के बाद पहली बार बसपा सरकार ने दूध का न्यूनतम मूल्य 14 रुपये निर्धारित किया है। प्रदेश सरकार अब दुधारू पशुओं की खरीद पर अनुदान देने की योजना भी लागू करने वाली है। साथ ही उनकी ग्रेडिंग भी कराई जायेगी। दस जिलों में विभागीय कार्यो का भौतिक सत्यापन करने पहुंचे पशुपालन मंत्री ने कहा कि फर्रुखाबाद, हरदोई, आगरा, उरई, झांसी, ललितपुर व महोबा के बाद चित्रकूट की स्थिति देखकर लगता है कि बुंदेलखंड में अन्ना प्रथा, पानी की कमी व अच्छी नस्ल के दुधारू पशुओं की कमी है। कहा कि यहां दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास किये जायेगे। पशुओं को बीमारियों से बचाने के लिए पशु चिकित्सालयों में पर्याप्त दवायें व उपकरण भेजे गये हैं। दवा वितरण घोटाले की शिकायत पर झांसी व महोबा में तीन नमूने लिये गये हैं। सरकार प्रत्येक जिले में स्वाइन फ्लू से निपटने के टीके भी जल्द ही भेजेगी।