बुंदेलखंड में एम्स खोलने के लिए केन्द्र सरकार को जमीन मुहैया कराने के संबंध में पत्र

0
136

सबसे पहले आपको उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री बनने का नया इतिहास रचने के लिए समस्त बुंदेलखंडवासियों की तरफ से कोटि.कोटि बधाई। बुंदेलखंड में उत्तर प्रदेश की एक चौथाई आबादी निवास करती है। लगभग पांच करोड की आबादी वाले बुंदेलखंड की 19 सीटों में से समाजवादी पार्टी के भले ही छह विधायक जीत कर विधानसभा पहुंचे हों लेकिन हम आपसे वादा करते हैं कि 2014 में होने वाले लोकसभा चुनाव में बुंदेलखंड की सभी सीटें सपा ही जीतेगी। बस आप यहां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ;एम्सद्ध खोलने के लिए केन्द्र सरकार को जमीन मुहैया करा दें। बदहाल और बीमार बुंदेलखंड में एम्स के खुलने से न केवल यहां के लोगों का बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए दिल्लीए लखनऊ में भटकना कम होगा बल्कि विकास व रोजगार के नये अवसर भी पैदा होंगे। और यहां के बूढेए बच्चे और जवान सभी आपको कोटि.कोटि शुभाशीष देंगे।
आपको मालूम है कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय एम्स की योजना संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में ले जाना चाहता था लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री मायावती जी ने इसका विरोध करते हुए एम्स को बुंदेलखंड में स्थापित करने की मंशा जाहिर की थी। हमें उम्मीद है कि आप मायावती जी की इस मंशा का सम्मान करके बुंदेलखंड के सच्चे हितैषी होने का संदेश देंगे। हम आपको यह सुझाव देना चाहते हैं कि प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत बनने वाले इस 960 बिस्तर वाले एम्स के लिए बुंदेलखंड में ऐसी जगह का चयन किया जाये जो मध्य में स्थित हो व जहां सभी जिलों के बीमार लोग आसानी से पहुंच सकें। बुंदेलखंड में प्रथम दृष्टि में सबको झांसी ही सबसे बेहतर जगह दिखती है जबकि सभी जानते हैं कि वह बुंदेलखंड के एक कोने में स्थित है। बांदा व चित्रकूट जिले के मरीजों के लिए कानपुर व लखनऊ इलाज के लिए जाना ज्यादा आसान पडता हैए झांसी पहुंचना मुश्किल। वैसे भी झांसी व ललितपुर जिले के मरीजों के लिए दिल्ली व ग्वालियर के विकल्प पहले से ही खुले हैं। एम्स के लिए महोबा सबसे मुफीद जगह हो सकती है। महोबा जनपद बुंदेलखंड के मध्य में पडता है और बेहद पिछडा भी है। अगर 823 करोड की लागत से बनने वाले एम्स के लिए महोबा में जगह आवंटित कर दी जाये तो सबसे अच्छा होगा। इससे समूचा बुंदेलखंड लाभान्वित होगाए साथ ही लखनऊ पीजीआई पर दबाब भी कम होगा। बुंदेलखंड में पूरे प्रदेश की एक चौथाई आबादी निवास करती है।
उम्मीद है कि आप हमारे सुझाये इस विकल्प पर विचार करेंगे और पूरी तरह केन्द्रीय सहायता से बनने वाले एम्स का तोहफा बुंदेलखंड की गरीब और बीमार जनता को देकर उन पर उपकार करेंगे।

तारा पाटकर
बुंदेली समाज
—————
सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

NO COMMENTS