बांदा में निर्माणाधीन लघु सेतु के नीचे, सपोर्ट को निकालने का प्रयास किया गया

0
132
  • लोक निर्माण विभाग द्वारा एफ0आई0आर0 दर्ज करायी गयी
  • निर्माणाधीन पुल पर कांग्रेस के नेता श्री राहुल गांधी को क्यों ले गये ?
  • विवेचना में वस्तुस्थिति स्पष्ट होने पर श्री विवेक सिंह एवं श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी  के विरूद्ध सरकारी कार्य में व्यवधान डालने के आरोप में नियमानुसार होगी सख्त कार्यवाही

उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग के प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि बांदा में करिया नाले पर लघु सेतु के शटरिंग का कार्य चल रहा था। इस बीच 12/13 अक्टूबर, 2011 की रात को कुछ अराजकतत्वों द्वारा पुल के नीचे सपोर्ट को निकालने का प्रयास किया गया, जिससे स्वाभाविक रूप से मध्य स्पान की शटरिंग डिस्टर्ब हो गयी। अराजकतत्वों के इस कृत्य के विरूद्ध लोक निर्माण विभाग द्वारा बांदा में एफ0आई0आर0 दर्ज करायी गयी है और जो भी इसके लिए जिम्मेदार पाया जायेगा, उसे किसी भी दशा में बख्शा नहीं जाएगा।
प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि राज्य सरकार की छवि खराब करने के लिए जान-बूझकर निर्माणाधीन पुल की शटरिंग को गिराने का प्रयास किया गया। उन्होंने कहा कि मीडिया के कुछ चैनलों में निर्माणाधीन पुल को लेकर चल रही खबरों में कांग्रेस प्रदेश यूनिट की अध्यक्षा श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी एवं विधायक श्री विवेक सिंह को कांग्रेस के महासचिव श्री राहुल गांधी के साथ मौके पर देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि श्रीमती जोशी एवं श्री सिंह ने यह कार्य राज्य सरकार को बदनाम करने व पार्टी में अपनी वाहवाही लूटने की नीयत से करते हुए प्रतीत हो रहे हैं।
प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा मालूम होता है कि सोची समझी रणनीति के तहत षड़यंत्र रचकर यह कार्यवाही की गयी है। उन्होंने कहा कि पुल के निर्माण का कार्य अभी चल रहा था। ऐसी स्थिति में कांग्रेस के यह दोनों नेता श्री राहुल गांधी को वहां क्यों ले गये ? यह रहस्यमय है। कांग्रेस के इन नेताओं ने श्री गांधी की सुरक्षा का भी ख्याल नहीं रखा। उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन पुल पर किसी भी प्रकार का हादसा हो सकता था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के इन नेताओं का यह कार्य अत्यन्त निंदनीय है। उन्होंने कहा कि पुलिस की विवेचना में वस्तुस्थिति स्पष्ट होने पर कांग्रेस के विधायक श्री विवेक सिंह एवं श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी के विरूद्ध सरकारी कार्य में व्यवधान डालने के आरोप में नियमानुसार सख्त कार्यवाही की जाएगी।
ज्ञातव्य है कि बांदा बाईपास के किलोमीटर छः में करिया नाले पर 196.348 लाख रूपये की लागत से लघु सेतु निर्माणाधीन है। इसके मध्य स्पान की ढलाई का कार्य 12 अक्टूबर को आंशिक रूप से हुआ था, शेष कार्य अगले दिन पूर्ण होना था।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

NO COMMENTS