बदबूदार पानी से बुझा रहे प्यास

0
150

महोबा- भीषण गर्मी में जल स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है। जिससे मुख्यालय समेत ग्रामीण अंचलों के ज्यादातर कुएं सूख गये है, हैंडपंप भी दगा देने लगे हैं। पानी के लिए जद्दोजहद जारी है।

चार साल सूखे की मार झेल चुके नागरिकों को इस वर्ष पानी बरसने से पानी कुछ उम्मीद बंधी थी। मगर जल संस्थान द्वारा की जा रही आपूर्ति से उनकी उम्मीदें धरी रह गयीं। लगभग एक दर्जन वाडरें के हजारों वाशिंदे इन दिनों जल संस्थान द्वारा की जा रही आपूर्ति से गंदा व बदबूदार पानी पीने को मजबूर है। मुख्यालय के शुक्लाना निवासी उपेंद्र, नरेश तिवारी, राहुल, रोहित कुमार आदि बताते है कि वार्ड के अधिकांश हैंडपंप ड्राई हो गये है। जलापूर्ति एक तो आती नहीं अगर आती भी है तो गंदा व बदबूदार पानी निकलता है। नागरिकों का आरोप है कि पानी में एलम व ब्लीचिंग पाउडर भी नहीं मिलाते। संस्थान मदनसागर से सीधे सप्लाई कर रहा है। जिससे यह पानी पीने लायक नहीं होता। जिससे यह पानी पीने लायक नहीं होता। बुंदेलखंड के जल संचयन पर शोध करने आये विदेशी भी मदन सागर की आपूर्ति देख आश्चर्य चकित हो गये थे। इनका मानना था कि इतना गंदा पानी पीकर लोग कैसे जिंदा है। कमोवेश यही हाल चरखारी के अर्जुन सागर से की जा रही आपूर्ति का है। अर्जुन सागर से चरखारी, खरेला सहित दर्जनों गांवों को जलापूर्ति दी जा रही है। इस संबंध में जल संस्थान के अधिशासी अभियंता सचींद्र शर्मा कहते है कि आपूर्ति का पानी फिल्टर कर आवश्यकतानुसार ब्लीचिंग पाउडर डाला जाता है। समय-समय पर वह निरीक्षण करते रहते हैं।