फूलों का बाड़ा पर सम्मानित हुए आरिफ

0
169

बांदा- शबरी की ओर से तृतीय प्रेमचंद्र स्मृति सम्मान कथाकार मो.आरिफ को मिला।उनका चर्चित कहानी संग्रह ‘फूलों का बाड़ा’ की भूरि-भूरि सराहना भी हुई।

शबरी द्वारा आयोजित सम्मान समारोह के दौरान स्थानीय कवियों और बाहर से आये समालोचकों का जमावड़ा लगा। इस मौके पर प्रख्यात समालोचक प्रो. नामवर सिंह ने कवि केदार के कृतित्व व व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वह सिर्फ सौंदर्य के कवि नहीं अपितु क्रांति के भी कवि हैं। उनकी प्रकृति संबंधी कविताओं के साथ राजनीतिक अर्थो वाली कवितायें भी महत्वपूर्ण हैं। समारोह की अध्यक्षता कवि आलोचक प्रो. राजेंद्र कुमार ने की। उन्होंने कवि केदार को भारत की श्रमशील जनता का प्रतिनिधि कवि बताया। कार्यक्रम की शुरूआत में प्रो. नामवर सिंह द्वारा शबरी की ओर से तृतीय प्रेमचंद्र स्मृति सम्मान चर्चित कलाकार मो. आरिफ के उनके कहानी संग्रह ‘फूलों का बाड़ा’ के लिए प्रदान किया। सम्मान के तौर पर उन्हें 11 हजार रूपये की राशि, सम्मान पत्र व अंगवस्त्र भेंट किया गया। इस अवसर पर ‘किसान समय व वर्तमान कथा साहित्य’ विषय पर संगोष्ठी भी हुयी। जिसमें विवेक निराला, प्रदीप सक्सेना, रमेश कुमार, प्रेम सिंह, अवधेश मिश्र, अखिलेश व रवींद्र वर्मा ने अपने विचार व्यक्त किये।