प्राधिकरण से दूर होगी बुंदेलखंड की बदहाली

0
164

महोबा- पांच वर्षो से सूखे की मार झेल रहे किसान भुखमरी के कारण आत्महत्याएं करने को मजबूर हैं। रोजगार की तलाश में किसान व मजदूर पलायन कर रहे हैं। ऐसे में प्रदेश सरकार ने किसानों को सिर्फ दिलासा दिया। कांग्रेस ने बुंदेलखंड के विकास के लिए प्राधिकरण गठित कर विशेष राहत पैकेज की घोषणा की है।

यह विचार संकल्प यात्रा पर आये बुंदेलखंड सूखा राहत अध्ययन समिति के सदस्य राजेंद्र शर्मा ने पत्रकार वार्ता के दौरान व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि सरकार अपने निजी स्वार्थ के चलते विकास प्राधिकरण में रोड़ा बनी हुई है। कहा या तो सरकार बुंदेलखंड के विकास में आगे आये अन्यथा प्राधिकरण का विरोध न करें। कांग्रेस के प्रदेश महासचिव भानू सहाय ने दो टूक लहजे में कहा कि संकल्प यात्रा को जन-जन तक पहुंचायेंगे। इस प्राधिकरण में जो भी बाधा आयेगी उसे दूर करने को हर संभव प्रयास करेंगे। कांग्रेस पार्टी के मंडल महासचिव केशव सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री के बुंदेलखंड के विकास की बात महज दिखावा है। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण के गठन से 81.76 करोड़ रुपया मिलेगा। जिससे प्रदेश की आर्थिक स्थिति सुधरेगी। प्रदेश में बेरोजगारी दूर होगी। कहा कि कांग्रेस संकल्प यात्रा से जन-जन तक यात्रा के उद्देश्यों को बतायेगी। बताया कि प्राधिकरण बुंदेलखंड के विकास से जुडे 9 बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित कर यहां की बदहाली दूर करेगा। उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड में केंद्रीय उत्पाद शुल्क, कस्टम, आयकर, सेवाकर आदि में राहत दी जाये। बुंदेलखंड के पिछड़े भूभाग में रोजगार के नये अवसर दिये जाये। बिजली समस्या के लिये शक्तिशाली पावर प्लांट लगाया जाये। कृषि की संभावनाओं को देखते हुये केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना की जाये। बेतवा एवं उसकी सहायक नदियों पर छोटे बांध बनाये जाये। ताकि भूजल स्तर में वृद्धि हो सके। चिकित्सा के क्षेत्र में एम्स की स्थापना की जाये। सहित 9 सूत्रीय मांगों को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने राहुल गांधी के नेतृत्व में दिग्विजय सिंह, रीता बहुगुणा, हरिप्रसाद की टीम को बुंदेलखंड विकास प्राधिकरण के गठन की अनुमति दी है। इस मौके पर मनोज तिवारी, जिलाध्यक्ष सुभाष सैनी सहित दर्जन भर कांग्रेसी उपस्थित रहे।