पैरावेट्स करेंगे इलाज तो बढ़ेगा पशुपालन उद्योग

0
212

चित्रकूट- ग्रामीण क्षेत्रों में पशु चिकित्सकों की कमी अब प्रशिक्षित पैरावेट पूरी करेंगे। गुरुवार ऐसे ही 15 प्रशिक्षितों को सीडीओ ने पशु चिकित्सा संबंधी किट वितरित की। उन्होंने पशुओं का समुचित उपचार करके जिले में पशु पालन उद्योग को बढ़ावा देने में सहयोग करने की अपील भी की।

पशु चिकित्सा विभाग द्वारा पैरावेट प्रशिक्षण योजनांतर्गत विकास भवन में आयोजित कार्यक्रम में सीडीओ पीसी श्रीवास्तव ने कहा कि क्षेत्र में पशु चिकित्सकों की संख्या कम होने से पैरावेट्स का महत्व बढ़ जाता है। कहा कि क्षेत्र में फैली बेरोजगारी को रोकने के लिए पशु पालन उद्योग को बढ़ावा देना जरूरी है। सभी पैरावेट्स पशुओं का गांव में ही प्राथमिक उपचार, कृत्रिम गर्भाधान व अन्य बीमारियों से बचायेंगे तो पशु पालन की ओर लोग आकर्षित होंगे। इस अवसर पर परियोजना निदेशक रामकिशुन ने कहा कि पैरावेट्स अपनी जिम्मेदारी सही ढंग से निभायेंगे तो पशु पालन उद्योग भी फल फूल जायेगा। कई योजनाओं से पशु मालिक ऋण लेकर उद्योग कर सकता है। पशु चिकित्साधिकारी डा. पी के प्रधान ने कहा 15 न्याय पंचायत हनुवा, कसेरुवा, खरौंध, बरहट, पैकोरा, बनाड़ी, हर्दीकला, वियावल, बरगढ़, अरछा बरेठी, इटखरी, मलवारा, रमयापुर, सरधुवा व रैपुरा में पैरावेट्स को विशेष प्रशिक्षण देकर डेढ़ हजार मासिक में कार्य करने को प्रशिक्षित कर दिया गया है। इसके बाद सीडीओ ने सभी पैरावेट्स को विशेष चिकित्सा किट प्रदान की।