मॉडल स्कूल खोलने की तैयारी, प्रस्ताव मांगे

0
234

झांसी- जिलों के पिछड़े ब्लाकों में मॉडल स्कूल खोलने की कवायद शुरू कर दी गई है। स्कूल खोलने के सम्बन्ध में प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा निदेशक की ओर से प्रस्ताव मांगे गए है।

बच्चों को आधुनिक शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए केन्द्रीय विद्यालय की तर्ज पर शुरूआती चरण में केन्द्र सरकार की देश में ढाई हजार मॉडल स्कूल खोलने की योजना है। इसके अन्तर्गत मानव संसाधन विकास मंत्रालय के स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग के निदेशक ने दिशा-निर्देश जारी कर दिए है। योजना के मुताबिक मॉडल स्कूल में गणित, विज्ञान, अंग्रेजी, कम्प्यूटर, स्वास्थ्य शिक्षा पर विशेष जोर रहेगा। खेलकूद , मनोरंजन आदि की पूरी सहूलियत रहेगी।

स्कूल किस मीडियम का होगा, यह राज्य सरकार तय करेगी। हिन्दी मीडियम स्कूल में कक्षा 9 से 12 और अंग्रेजी मीडियम में कक्षा 6 से 12 तक की पढ़ाई होगी। स्कूलों में अंग्रेजी शिक्षण व स्पीकिंग पर खास जोर रहेगा। स्कूल के लिए जगह का मानक दस एकड़ रखा गया है, किन्तु विशेष स्थितियों में पांच एकड़ पर भी मंजूरी दी जाएगी। बताया गया है कि जगह नहीं मिलने पर पूर्व में स्थापित स्कूलों को भी परिवर्तित करके मॉडल स्कूलों में बदला जा सकता है। इसमें आश्रम पद्धति के स्कूल को वरीयता दी जाएगी।

स्कूल का प्रबन्धन केन्द्रीय विद्यालय संगठन की तर्ज पर पृथक सोसाइटी के हाथ में होगा। इसमें छात्र-अध्यापक का अनुपात 25 और 2 का रखा गया है। मॉडल स्कूल खोलने के सम्बन्ध में उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद के निदेशक कृष्ण मोहन त्रिपाठी ने सभी जिलों से प्रस्ताव मांगे है।