पहले ही प्रयास में सिविल सेवा परीक्षा पास कर जिले का बढ़ाया गौरव

0
202

430वीं रैंक पाकर वकील का पुत्र बना आईएएस

चित्रकूट –   पहले प्रयास में ही सिविल सेवा परीक्षा में 430वीं रैंक से सफलता प्राप्त कर उसने परिवार व जिले का नाम रोशन किया है। उसकी इस सफलता पर परिवारीजनों सहित जानने पहचानने वालों ने उसे बधाई दी है।

विकास खण्ड मानिकपुर के अगरहुड़ा गांव निवासी पं. सुशील कुमार त्रिपाठी पेशे से वकील हैं और वर्तमान समय वे जिला मुख्यालय के सदर बाजार में रह रहे हैं। इन्ही के तीसरे नंबर की सन्तान है शशिकान्त त्रिपाठी जिसने संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा अपने पहले ही प्रयास में पास की है। उसने इस प्रतियोगी परीक्षा में 430वीं रैंक प्राप्त कर आईएएस बनने  का गौरव पाया है। शशिकान्त के बहनोई डा. श्रवण कुमार तिवारी  जो स्वयं एक दन्त चिकित्सक है ने बताया कि शशिकान्त ने जिला मुख्यालय के चित्रकूट इंटर कालेज से इंटर की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण करने के बाद इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक व पं. जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय दिल्ली से परास्नातक और नेट की परीक्षाएं पास की थी। इसके बाद वह पीएचडी कर रहा था और साथ ही उसने संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा भी दी थी। उन्होंने बताया कि शशिकान्त शुरू से ही पढ़ने में विशेष रुचि रखता था और अपनी मेहनत के बल पर ही उसने यह सफलता हासिल की है। उसकी इस सफलता पर मां सरोज त्रिपाठी, पिता सुशील त्रिपाठी, बहन विजय लक्ष्मी तिवारी, बड़े भाई ओम प्रकाश त्रिपाठी  सहित नवल किशोर तिवारी, रामसागर चतुर्वेदी, कृष्ण कुमार तिवारी आदि ने बधाई देते हुए उसके उज्जवल भविष्य की कामना की है।