पहचान बताने पर पुलिस देगी 10 हजार ईनाम…

0
162
 acb-55a519da260a0_l
झाँसी में गरौठा के केदारताई गांव  में सात वर्षीय बालिका की पिछले दिनों नृशंस हत्या कर दी गयी थी उसी मामले में अब सुराग देने वाले व्यक्ति को पुलिस प्रशासन ने 10 हजार रुपये का पुरस्कार देने का एलान किया है। वहीं, हत्यारे की तलाश में जुटी आधा दर्जन टीमों के हाथ खाली हैं।
उल्लेखनीय है कि अयोध्या प्रसाद अहिरवार की सात वर्षीय बेटी अनामिका बृहस्पतिवार की शाम घर के बाहर खेलने चली गई। शाम को जब वह घर नहीं लौटी तो परिजनों ने तलाश शुरू की। देर शाम गांव के रामदीन के बाडे़ में बालिका का शव मिला था। उसके गला घोंटा गया था, जबकि सिर पत्थर से कुचला गया था। मामले की गंभीरता को देख एसएसपी ने हत्यारे की तलाश के लिए आधा दर्जन से ज्यादा पुलिस टीमें गठित कर दीं। प्रथम दृष्टया पुलिस को शव मिलने के स्थान और हत्या के तरीके से किसी परिचित द्वारा वारदात को अंजाम दिए जाने की आशंका है। जिसके चलते पुलिस टीमों ने तमाम संबंधियों और गांव के लोगों से अलग-अलग पूछताछ की मगर कोई ठोस सुराग नहीं मिला।
इसके चलते रविवार को एसएसपी सुभाष चंद्र दुबे ने हत्यारे का सुराग देने वाले को 10 हजार रुपये का पुरस्कार देने का एलान किया है। सुराग देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा।
एसपी का कहना है 
कि अनामिका की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बारे में एसपी देहात दिनेश सिंह ने बताया कि उसकी किसी कपड़े से गला दबाकर हत्या की गई है। इसके बाद किसी भारी वस्तु से प्रहार किया गया, जिससे उसके सिर में चोट आई है। उसके शरीर पर कुछ और चोट के निशान भी मिले हैं।