नामांकन निरस्त होने की आशंका पर गुस्साए भाजपा कार्यकर्ता…

0
301
झाँसी में एम एल सी  हो रहे चुनाव में भाजपा प्रत्याशी का नामांकन निरस्त होने की आशंका के चलते कलेक्ट्रेट में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई। डीएम द्वारा भाजपा प्रत्याशी को आपत्तियों के निस्तारण के लिए बुलाए जाने पर भाजपाइयों ने कलेक्ट्रेट में नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर जिलाधिकारी से निष्पक्ष कार्रवाई करने को कहा। बाद में हुई जांच में आपत्तियां निरस्त कर दी गईं। अब  भाजपा व सपा प्रत्याशी के बीच मुकाबला होगा।

विधान परिषद चुनाव में समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी रमा निरंजन ने अपने प्रतिद्वंद्वी भाजपा प्रत्याशी हरिओम उपाध्याय के नामांकन को लेकर आपत्ति दर्ज कराई थी। उनका कहना था कि भाजपा प्रत्याशी द्वारा जमा किए गए एक नामांकन पत्र में शपथ पत्र पर हस्ताक्षर गलत स्थान पर हैं। वहीं दूसरे सेट में दो प्रस्तावकों के हस्ताक्षर फर्जी हैं।

इन दो लोगों के शपथपत्र भी उन्होंने जिला निर्वाचन अधिकारी के पास जमा कराए। जिलाधिकारी ने भाजपा प्रत्याशी को झांसी में न होने के कारण जालौन जिले के जिलाधिकारी के माध्यम से सूचना भिजवाई और उन्हें शाम तक आकर आपत्तियों का निस्तारण करने को कहा। भाजपा प्रत्याशी ने दूर होने के कारण अधिक समय मांगा तो डीएम ने शाम सात बजे आकर आपत्तियां निस्तारित करने को कहा।

भाजपा प्रत्याशी हरिओम उपाध्याय ने यह सूचना केंद्रीय मंत्री उमा भारती, विधायक रवि शर्मा आदि को दी। इस पर केंद्रीय मंत्री उमा भारती व विधायक रवि शर्मा शाम  कलेक्ट्रेट पहुंचे। उमा ने डीएम से मामले की जानकारी ली और पक्षपात पूर्ण कार्रवाई न करने को कहा। इस दौरान कलेक्ट्रेट परिसर में भाजपाई एकत्र हो गए और नारेबाजी करने लगे। शाम सात बजकर बीस मिनट पर भाजपा प्रत्याशी कलेक्ट्रेट पहुंचे। आपत्तियों की जांच शुरू हुई। जिलाधिकारी ने बताया कि शपथ पत्र पर हस्ताक्षर की आपत्ति इस आधार पर निरस्त कर दी गई कि उन्हें मजिस्ट्रेट के समक्ष किया गया था। भाजपा प्रत्याशी का एक सेट सही पाया गया है। अब चुनाव में दो प्रत्याशी मैदान में हैं। डीएम द्वारा नामांकन सही होने की घोषणा करते ही भाजपाइयों में खुशी की लहर दौड़ गई।

भाजपा प्रत्याशी हरिओम उपाध्याय व भाजपा सांसद भानू वर्मा  का आरोप है कि उनके साथी व प्रस्तावक जिला पंचायत सदस्य बाल किशन पर सत्ताधारी दल के प्रभावशाली लोगों द्वारा दबाव बनाया जा रहा है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि प्रशासन सत्ता पक्ष के इशारे पर उन्हें परेशान कर रहा है।

क्या चर्चा है लोगो में 

झाँसी में चर्चा जोरो में है कि उमा भारती के झाँसी में होने के कारण नहीं हो सका नामांकन निरस्त

NO COMMENTS