नहर सफाई का काम शुरू नहीं हो पा रहा

0
95

महोबा- रबी की बुवाई शुरू होने को है और नहरों की सफाई के लिये सिंचाई विभाग की तैयारी ही पूरी नहीं हो पायी। कई बांधों में सिंचाई योग्य पानी ही नहीं है। इस कारण मात्र 86 किमी नहर सफाई की योजना बनाई गई है। वह भी पैसा न होने से परवान नहीं चढ़ पा रही।

रबी की बुवाई का समय चल रहा है। चंद दिन बाद गेहूं और मटर की फसल सिंचाई के लिये पानी की जरूरत पड़ेगी। सिंचाई विभाग नहरों की सफाई कराकर इसकी पूर्व तैयारी भी नहीं कर पाया है। जिले में आधा दर्जन से ज्यादा बड़े बांध है जिससे लगभग 90 हजार हे. कृषि भूमि की सिंचाई होती रही है। वर्षा कम होने से यहां के आधा दर्जन बांधों में से ज्यादातर में इतना पानी ही नहीं कि सिंचाई के लिये नहरें चलाई जा सकें। अधिशाषी अभियंता संदीप गुप्ता बताया कि मझगवां बांध, कबरई बांध, अर्जुन बांध और चंद्रावल बांध के साथ ही बेलाताल में भी वर्तमान जल स्तर पर्याप्त नहीं है। भविष्य में पीने के पानी की जरूरत को ध्यान में रखते हुये उपलब्ध जल को आरक्षित किया गया है। मौजूदा में केवल उर्मिल और लहचूरा बांध से ही सिंचाई के लिये पानी दे पाना संभव होगा। इनसे भी भरपूर पानी दे पाने की उम्मीद नहीं की जाती। इन्हीं हालात के चलते जिले की 481 किमी नहर प्रणाली में से मात्र 86 किमी की सफाई कराने की कार्ययोजना बनाई गई है। इसमें लगभग 16.92 लाख रुपये की जरूरत पड़नी है। कार्ययोजना को अंतिम रूप दे अनुमोदन व धन आवंटन हेतु जिलाधिकारी को प्रेषित किया गया है। जरूरत है पैसा मिलने की। धन प्राप्त होते ही नहरों की सफाई शुरू करा दी जायेगी।