नरेगा के कार्यान्वयन को परखा

0
130

जालौन-भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय की टीम ने रामपुरा विकासखंड की बिलौहा व बहराई ग्राम पंचायतों में नरेगा के संपादन का निरीक्षण किया। बहराई में गड़बड़ी मिलने पर उन्होंने प्रधान व पंचायत सचिव को जमकर फटकारा।

दो सदस्यीय टीम में शामिल अधिकारियों ने बिलौहा में कैश बुक, परिसंपत्ति रजिस्टर, मस्टर रोल, जॉबकार्ड, चेक बुक का निरीक्षण किया। उन्होंने बेहतर रखरखाव के लिए ग्राम पंचायत अधिकारी पुरुषोत्तम नारायण सिंह की सराहना की। इस दौरान गयाराम, राजू आदि ने यह शिकायत की कि बैंक से मजदूरी निकलने में 15 दिन से एक माह तक का समय लग जाता है। इस कारण उन्हे भुखमरी जैसी स्थिति से जूझना पड़ता है। टीम ने आश्वासन दिया कि बैंकों से भुगतान की स्थिति ठीक करायी जायेगी।

इसके बाद टीम बहराई पहुंची जहां मस्टर रोल में हाजिरी चढ़ाने में गड़बड़ी देखकर अधिकारी खफा हुए। इसके उपरांत कैश बुक देखी तो उसमें जनवरी 09 से अभी तक कोई इंट्री नहीं थी। इस पर ग्राम पंचायत अधिकारी सुशील कुमार को उन्होंने जमकर लताड़ा। कृष्ण गोपाल नाम के एक मजदूर ने प्रधान पर जॉबकार्ड न बनाने का आरोप लगाया तो उन्होंने प्रधान की भी क्लास ले ली। इसके बाद उन्होंने बताया कि हर छह महीने में गांव के ही एक श्रमिक के जरिये नरेगा के सोशल आडिट की व्यवस्था की जा रही है। यदि इस दौरान योजना के कार्यान्वयन में कमी पायी गयी तो प्रधान व सचिव पर कार्रवाई होगी। उन्होंने प्रधान व सचिव को यह भी हिदायत दी कि मजदूर के पूरे परिवार का संयुक्त बैंक खाता खुलवाने की बजाय अलग-अलग खाते खुलवाये जायें।