नदियों में छोड़े गये पानी से प्रशासन चिंतित

0
154

हमीरपुर-ताजेवाला बांध और धसान नदी में पानी छोड़े जाने से बेतवा और यमुना के जल स्तर में बढ़ोत्तरी से प्रशासनिक अधिकारी चिंतित हैं। हरियाणा के ताजेवाला बांध से 4 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है, जो कल सुबह तक हमीरपुर मुख्यालय में यमुना नदी में पहुंचेगा। उधर धसान नदी में भी पानी छोड़ा गया है, जो बेतवा नदी के जल स्तर को प्रभावित करेगा। बीते एक हफ्ता से मध्य प्रदेश और राजस्थान क्षेत्र में जबरदस्त बारिश होने से बेतवा, चंबल, धसान नदी व यमुना नदी के जल स्तर में बढ़ोत्तरी होगी। मौदहा बांध के अधिशाषी अभियंता राजीव कुमार के अनुसार ताजेवाला बांध से छोड़े गये पानी के कारण यमुना का जल स्तर 105 मीटर पहुंचने की संभावना है, जोकि खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर होगा। हालांकि बरसात में मौसम में बेतवा नदी सूखी पड़ी है, मगर धसान नदी में छोड़ा गया पानी बेतवा को प्रभावित करेगा। उधर केन नदी का जल स्तर खतरे के निशान पर चल रहा है, जिसे मौदहा तहसील के 6 गांव प्रभावित होंगे ही, केन की ठेल से यमुना और बेतवा के जलस्तर में बढ़ोत्तरी होगी। जिलाधिकारी श्री निवास ने बाढ़ को गंभीरता से लेते हुए बेतवा व यमुना नदी के किनारे के आधा दर्जन गांवों का आज शाम निरीक्षण किया। उन्होंने ग्रामीणों को बाढ़ से सतर्क रहने को कहा, साथ ही हमीरपुर मुख्यालय के जल निकासी के उन स्थानों को भी देखा, जहां से पानी बेतवा नदी में गिरता है। उन्होंने अधिशाषी अभियंता मौदहा बांध को बाढ़ से बचाव के आवश्यक उपाय करने के निर्देश दिये। नदियों में छोड़े गये पानी %E