नगर निगम गरीबों के लिए 4500 मकान बनाएगी

0
180

ग्वालियर-सिटी सेंटर स्थित हेल्थ सेंटर में म.प्र मानव अधिकार आयोग के स्थापना दिवस पर आयोजित विचार गोष्ठी में महापौर विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि व्यक्ति जब अपने अधिकारों और कर्तव्यों का पालन करेगा, तभी उसकी इच्छाओं की पूर्ति संभव हो सकेगी। नगर निगम पानी, साफ- सफाई तथा अन्य बुनियादी सुविधाएं जनता को मुहैया करा रहा है। उसके बाद अगर किसी को कोई परेशानी हो तो वह अपने अधिकारों का उपयोग करते हुए उनका निराकरण करा सकता है।

महापौर ने कहा कि वर्तमान में आवास की समस्या गंभीर बनी हुई है। केवल चारदीवारी खड़ी कर मकान बना देने से इस समस्या का निराकरण नहीं हो सकता। इसके लिए इन्फास्ट्रक्चर का होना आवश्यक है। नगर निगम का पहला दायित्व है कि शहर के नागरिकों को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मुहैया कराए। सात लाख की आबादी वाले शहर में लोग मकानों को लेकर काफी परेशान है। इनमें अधिकांश लोग मलिन बस्तियों में रहते हैं। उनकी समस्याओं के निराकरण की जिम्मेदारी नगर निगम ने ली है।

महापौर ने बताया कि नगर निगम गरीबों के लिए 4500 मकान बनाने जा रहा है। इसके लिए हरिजन बस्ती को खाली कराने का कार्य शुरू किया गया है। जीडीए भी 4500 मकान का निर्माण करेगा। गंदी व मलिन बस्तियों में रहने वाले गरीबों को अधिक सुविधा उपलब्ध कराने के लिए नगर निगम प्रोजेक्ट उत्थान के तहत 24 बस्तियों में विकास कार्य शुरू किए हैं।

गोष्ठी में मौजूद लोगों में शांति सेना की अध्यक्ष श्रीमती रमेश शर्मा ने कहा कि एक साधारण व्यक्ति के लिए आज के समय में मकान खरीदना बड़ा मुश्किल है। किसी तरह बैंक से ऋण लेकर मकान बनाने के बाद उसका नामांतरण कराने में बड़ी कठिनाइयां आती हैं। वहीं शांति सेना की सचिव मंजूला सिंहल का कहना था कि मानव अधिकार आयोग बच्चों, महिलाओं तथा बुजुगरें के लिए काफी कार्यक्रम चला रहा है। आयोग द्वारा उन्हें आश्रय देने के लिए कोई काम नहीं किए जा रहे हैं। व्यक्ति को रोटी, कपड़ा और मकान की महती आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार व आयोग को इस मुद्दे पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। जबकि एक अन्य सदस्य अमित पांडे ने नगर निगम व हाउसिंग बोर्ड पर भवन नामांतरण को लेकर उंगली उठाते हुए रिश्वत लिए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि समय सीमा गुजर जाने के बाद भी निगम व हाउसिंग बोर्ड के कर्मचारी प्रकरणों का निराकरण नहीं करते।

इस मौके पर जीडीए के मुख्य कार्यपालन अधिकारी विजय अग्रवाल, महिला कांग्रेस अध्यक्ष कुसुम शर्मा, नागरिक सहकारी बैंक की अध्यक्ष अलका श्रीवास्तव, संयोजक बीएल गौड़, श्रीमती राज भम्बानी मौजूद थे।