दस्यु नान से मुठभेड़ जारी, दो और शहीद

0
90

चित्रकूट-राजापुर थाना क्षेत्र के जमौली गांव में दस्यु नान उर्फ घनश्याम केवट व पुलिस के बीच मंगलवार को शुरू हुई मुठभेड़ बुधवार को भी चलती रही। दूसरे दिन दस्यु नान की फायरिंग से पीएसी के कंपनी कमांडर व एक सिपाही शहीद हो गये। वहीं आईजी पीएसी व डीआईजी बांदा समेत पांच लोग घायल हो गये। घायलों को हेलीकॉप्टर से पीजीआई लखनऊ भेजा गया।  एडीजी बृजलाल ने अभियान की कमान संभाल ली थी।  सुरवल के मजरे जमौली की किस्मत में शायद यही लिखा था। लगभग सौ घरों के केवटों के पुरवे में कुछ ही घर सही सलामत बच पाये वरना सभी को कभी डाकू तो कभी पुलिस ने आग के हवाले कर दिया। जिलाधिकारी हृदेशकुमार ने एसडीएम को गांव के लोगों को खाने पीने की व्यवस्था करने के आदेश दिए हैं।

जानकारी के अनुसार गांव के लगभग सौ घरों में रहनेवाले डेढ़ सौ केवट परिवारों ने समीपवर्ती अपने रिश्तेदारियों में शरण ले रखी है और कतई यह स्वीकार करने को तैयार नहीं कि वे यहां के रहनेवाले हैं। वैसे इसके पूर्व शुरू से ही मोर्चे को लीड करनेवाले एडीशनल एसपी जुगुलकिशोर ने बताया था कि मंगलवार की दोपहर से ही ग्रामीणों, महिलाओं व बच्चों को बाहर निकालकर स्कूल में सुरक्षित ठहराने के साथ पुलिस के जवानों के लिए आनेवाले खाने-पीने की वस्तुएं गांव वालों को दी गईं। एक ग्रामीण ने तो जिलाधिकारी को बताया कि पिछले दो दिन पूर्व इस पुरवे के केवट के घर में नौटंकी हुई थी। उसमें नान आया था। उसने पैसा लुटाने के साथ ही हर्ष फायरिंग भी की थी पर उस कार्यक्रम में उन लोगों को नहीं बुलाया गया था। पुरवे के लोग काफी पहले से केवट जाति के डाकुओं को संरक्षण देते थे इसलिए अब वे मारे डर के प्रशासन से दुबक रहे हैं।

पिछले दो दिनों से लगातार चल ही मुठभेड़ के बाद भी घटनास्थल पर अभी तक जिले का कोई भी माननीय घटना स्थल तक नही पहुंचा। सांसद, विधायक या फिर पास के गांवों के प्रधानों का भी पता इस खतरनाक मुठभेड़ के दौरान जब हजारों की संख्या में लोग मौके पर थे। किसी भी माननीय ने वहां पहुंचकर जवानों का हौसला बढ़ाने की आवश्यकता नहीं समझी।

NO COMMENTS