दरिद्र नारायण की सेवा करना ही हमारा मुख्य लक्ष्य-आईजी

0
173

सागर- शनिवार से शुरू हुए कमजोर वर्गो के प्रति संवेदनशीलता विषय पर सेमिनार के पहले दिन यह बात सामने आई कि सागर रेंज में दलितों पर होने वाले अपराधों के 600 मामले लंबित हैं।। जोन स्तरीय प्रशिक्षण में मात्र 28 पुलिस अधिकारी उपस्थित हुए। यह प्रशिक्षण दो दिन चलेगा।

मकरोनिया स्थित जवाहरलाल पुलिस अकादमी के सभागार में सेमिनार का शुभारंभ रेंज के आईजी अन्वेष मंगलम् ने किया।  आईजी श्री मंगलम् ने अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि दरिद्र नारायण की सेवा करना ही हमारा मुख्य लक्ष्य है। इस वर्ग को जागरूक करने के लिए शासन ने विभिन्न योजनाएं चलाई हैं, इसके क्रियान्वयन की जिम्मेदारी अधिकारियों की है। सेमिनार में डीएसपी और थाना प्रभारियों के अलावा आवेदक और आरोपी पक्ष को भी बुलाया गया है।

सेमिनार में अधिकारियों को एससी-एसटी एक्ट की विवेचना के तरीके बताए गए। डीआईजी आरके गुप्ता ने कहा कि इन वर्गो के मामलों को समय सीमा में निपटाएं ताकि पीड़ितों को न्याय मिल सके। गुप्ता ने कहा कि सागर रेंज में ऐसे 600 मामले लंबित हैं जो अन्य रेंज से कम हैं। इन मामलों में यदि तेजी से कार्रवाई की जाए तो यह संख्या और भी कम हो जाएगी।

सेमिनार में यह बात भी उजागर हुई कि दलित वर्गो को एससी-एसटी एक्ट के तहत राहत राशि कम दी जाती है। यह राशि आदिमजाति कल्याण विभाग द्वारा पीड़ित पक्ष को दी जाती है। इस मामले को संभाग स्तरीय बैठक में रखा जाएगा।