तीखी हुई सूरज की किरणें, दोपहर में सन्नाटा

0
182

चित्रकूट। चैत्र मास में ही जेठ की तपन व उमस महसूस होने से लोग हलाकान दिखने लगे है। सूरज की किरणें लोगों को चुभने लगी है। सड़कों पर निकलने वाले चश्मा, टोपी व गमछा बांधे देखे जा रहे है। दोपहर को तो मुख्य मार्गो में भी सन्नाटा पसर जाता है।

इन दिनों मुख्यालय में बहुत गर्मी है। सुबह से ही धूप में तेज चुभन रहती है। दोपहर होते-होते इसमें बढ़ोत्तरी होती जाती है। बगैर छाते, टोपी व साफी के सड़कों पर निकले लोग परेशान दिखते है। आवश्यक कार्य के लिये घरों में निकले लोगों को गर्मी के इतने तीखे तेवर की उम्मीद नहीं थी, लेकिन धूप की तेजी ने अपने मजबूत उपस्थिति का अहसास कराती है। पिछले कई दिनों से धूप इतनी तेज थी। उसमें कुछ पल के लिये रुकना भी मुश्किल हो रहा है। गर्मी व धूप से बचाव के उपाय के साथ घरों से निकली लड़कियां अपने चेहरे को पूरी तरह थके व महिलायें छाता लेकर चलते देखी गई। युवक टोपियां व चश्मा पहन कर धूप से बचाव करते दिखे। राहगीर तो सड़क किनारे मिली छांव ने थोड़ी देर ठहर कर गंतव्य की ओर रवाना होते देखे जा सकते है। इसी उमस के चलते आमजन व बाहरी व्यक्तियों को खासकर रेलवे स्टेशन, बस स्टैड, कचहरी व तहसील व जिला अस्पताल के आसपास पेयजल के लिये भटकते देखा जा रहा है। तेज धूप व गर्मी से लोकसभा चुनाव प्रचार भी प्रभावित दिखता है। इस दौरान पार्टी समर्थक जनसंपर्क करने में भी कतराते है। बाजार में चश्मा ,टोपी व गमछा की मांग ज्यादा बढ़ गई है।