डॉक्टरों का कारनामा, 4 घंटे में किए नसबंदी के 73 ऑपरेशन

0
223

यू पी -वाराणसी . पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में पीएचसी डॉक्टरों की लापरवाही का मामला सामने आया है। यहां चिरईगांव ब्लॉक के प्राथमिक स्वास्थ केंद्र (पीएचसी) महज चार घंटे में नसबंदी के 73 ऑपरेशन कर दिए गए। परिवार कल्याण योजना के तहत कराए गए ऑपरेशनों में तय मानकों का भी ध्यान नहीं रखा गया। एक महिला सर्जन को एक ऑपरेशन में सिर्फ सवा तीन मिनट लगे। बदहाली के बीच नसबंदी कराने आई महिलाओं को बेड तक नसीब नहीं हुआ। ऐसे में उन्हें खुले आसमान के नीचे जमीन पर चादर-दरी बिछा कर लिटा दिया गया। इसके पहले कुशीनगर में ऐसा मामला सामने आया था। यहां महज दो घंटे में 42 महिलाओं की नसबंदी कर दी गई थी।operation
प्राथमिक स्वास्थ केंद्र चिरईगांव ब्लॉक में गुरुवार को नसबंदी कार्यक्रम चल रहा था। इसके तहत सैकड़ों महिलाएं नसबंदी कराने पहुंची। महिला सर्जन ने दोपहर 12 बजे ऑपरेशन शुरू किया और शाम चार बजे तक उनका मिशन सक्सेस हो गया। इसके तुरंत बाद महिलाओं को अस्पताल के बाहर खुले आसमान में जमीन पर लिटा दिया गया। ऐसा करते वक्त यह भी नहीं सोचा गया कि यदि इन महिलाओं को इंफेक्शन हो गया, तो इसका जिम्मेदार कौन होगा।

सीएमओ ने कहा होगी कार्रवाई
सीएमओं ने बताया कि अस्पताल में बेड कम होता है, लेकिन सभी को निर्देश दिया गया है कि पेड के नीचे गद्दे पर या चारपाई पर लिटाने की व्यवस्था की जाए। गद्दे और टेंट के लिए पैसा दिया जाता है। उसके बावजूद यदि पीएचसी के प्रभारी खुले आसमान में मरीजों को सुला रहे हैं, तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मुख्य सचिव ने कहा मामले में लेंगे एक्शन
मामला प्रकाश में आने के बाद मुख्य सचिव आलोक रंजन ने कहा कि वाराणसी में स्वास्थ्य विभाग की यह लापरवाही है। मामले की पड़ताल कराई जाएगी। संबंधित अधिकारियों के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। वहीं, केंद्रीय कपड़ा मंत्री संतोष गंगवार ने भी इस मामले में प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि इस मामले पर प्रदेश के स्वास्थ्य महकमे को ध्यान देना चाहिए। लोगों की सेहत के साथ किसी तरह का खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। इसके अलावा प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने भी नसबंदी ऑपरेशन मामले में उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।

NO COMMENTS