डीएम ने सपत्‍‌नीक किया रक्तदान

0
205

हमीरपुर-रक्तदान दिवस पर जिलाधिकारी जी श्रीनिवासु ने रक्तदान किया। उन्होंने कहा कि रक्तदान करने से शारीरिक क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता, बल्कि प्रतिरोधक क्षमता और नये खून का निर्माण होता है। जरूरत है, इसके प्रचार प्रसार की, नयी पीढ़ी को जागरूक करने की। उन्होंने कहा कि खून की कमी से तमाम मरीजों को कानपुर लखनऊ इलाज के लिए रिफर कर दिया जाता है। यह अच्छी बात नहीं है। जिलाधिकारी रक्तदान दिवस पर जिला अस्पताल पहुंचे और उन्होंने रक्तदान किया। उनकी पत्‍‌नी ने भी रक्तदान कर मिशाल पेश की। बताते चलें कि चार साल पहले तत्कालीन जिलाधिकारी अजय शुक्ला ने रक्तदान किया था। मुख्य चिकित्साधीक्षक आर पी गुप्ता बताते हैं कि 9 महीने में 95 यूनिट रक्तदान करने पर उन्हें मिला है। जबकि 15 अगस्त को राठ में विशेष शिविर लगाने पर 5 यूनिट खून मिला था। उन्होंने माना कि जागरूकता की कमी के कारण लोग खून देने से कतराते हैं, वे रजिस्ट्रेशन तो करा जाते हैं, मगर जब खून मागा जाता है, तो वे किनारा कर जाते हैं। उन्होंने बताया कि 100 यूनिट खून रखने की क्षमता है, जिसे 35 दिन तक सुरक्षित रखा जा सकता है। उनका प्रयास होगा कि खून की कमी के कारण कोई मरीज कानपुर न भेजा जाये। इस मौके पर डा. आर के मिश्रा व अन्य डाक्टर मौजूद रहे।