डीएम ने संक्रामक बीमारी से प्रभावित गाव का दौरा किया

0
126

ललितपुर- विकास खण्ड बार अन्तर्गत ग्राम दशरारा में संक्रामक बीमारियों का शिकंजा कसता जा रहा है। कल उल्टी-दस्त से पीड़ित दो महिलाओं की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने रोकथाम की दशा में प्रयास तेज कर दिए है। बुधवार को जिलाधिकारी रणवीर प्रसाद ने गाव का दौरा कर स्थिति का जायजा लिया। उनके निर्देश पर गाव में ही शिविर लगाकर गरीबों का इलाज शुरू कर दिया गया है। अब गाव में स्थिति नियंत्रण में बताई जा रही है। हैण्डपम्प का प्रदूषित पानी पीने की वजह से गाव में बीमारिया फैली थीं।

ग्रामीणों का कहना है कि गाव में इलाज के नाम पर मात्र दवाइया बाट दी गयीं। यदि विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा इलाज किया गया होता तो गाव में हालात इतने नहीं बिगड़ते। बुधवार को जिलाधिकारी रणवीर प्रसाद ने जिलास्तरीय अधिकारियों के साथ गाव का भ्रमण कर चिकित्सा व्यवस्था का जायजा लिया एवं हैजा से मृतक दो महिलाओं के सम्बन्ध में ग्रामीणों से पूछताछ की। जिलाधिकारी ने गाव की नालियों, गलियों की साफ सफाई, पेयजल व्यवस्था आदि का जायजा लिया। निरीक्षण में अनेकखामिया नजर आई। गाव के बरिया के पास स्थित हैण्डपम्प के पानी के नमूने लेकर जांच कराई गई। पाया गया कि हैण्डपम्प के जल में प्रदूषित कण पाये जाने से हैजा का प्रकोप से ग्रामीण पीड़ित हुए। जल निगम के अधिकारियों को जिलाधिकारी ने हैण्डपम्प को उक्त स्थान से स्थानातरित कर दूसरे स्थान पर लगाने के निर्देश दिये। गाव की बदहाल साफ सफाई नहीं होने पर मच्छरों का प्रकोप बढ़ने से संक्रामक बीमारियों की उत्पत्ति में खुला आमंत्रण मिला। जिलाधिकारी ने लापरवाह सफाई कर्मी को कड़ी फटकार लगाते हुए शीघ्र साफ सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये।

स्वास्थ्य कैम्प में बुखार, जुकाम, खासी, वायरल फीवर के 48 मरीज तथा हैजा के पाच मरीज का उपचार किया गया। इसके पश्चात दिन भर मरीजों का परीक्षण एवं उपचार जारी रहा। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी बुद्धिराम, प्रभारी जिला पंचायतराज अधिकारी शम्भूनाथ तिवारी, उप जिलाधिकारी तालबेहट राकेश कुमार श्रीवास्तव, ेमुख्य चिकित्साधिकारी डा.आर.के.निरजन, खण्ड विकास अधिकारी मत्स्यनाथ द्विवेदी, प्रभारी चिकित्साधिकारी बार डा.डी.एस.चौधरी आदि मौजूद रहे।

NO COMMENTS