डीएपी व जिंक सल्फेट के नमूने भरे

0
107

झांसी- उर्वरक में मिलावट एवं ब्लैक मार्केट पर अंकुश हेतु छेड़े गए अभियान के प्रथम दिन ही गड़बड़ी मिलने पर बबीना में एक दुकान का लाइसेंस निलम्बित करने और दूसरी दुकान के बन्द मिलने पर नोटिस जारी करने के आदेश दे दिए गए। इस दौरान उर्वरक डीएपी व जिंक सल्फेट के नमूने भरे गए और सहकारी समिति के बन्द मिलने पर कार्रवाई को लिखा गया।

मण्डलायुक्त टीपी पाठक के निर्देश पर आज अपरान्ह संयुक्त कृषि निदेशक जेएन माथुर के नेतृत्व में टीम द्वारा बबीना में चेकिंग की गई। इस दौरान लाइसेंसी उर्वरक वितरक कुमार ट्रेडर्स पर किसानों की भीड़ लगी मिली, किन्तु उर्वरक का वितरण नहीं किया जा रहा था। किसानों का आरोप था कि यहा 471 रुपए कीमत की डीएपी की बोरी को 650 रुपए में बेचा जा रहा है। जाच करने पर दुकान में 14 बोरी डीएपी व 96 बोरी यूरिया रखी मिली। संयुक्त कृषि निदेशक द्वारा किसानों को लाइन लगवा कर खाद को निर्धारित दरों पर वितरित करा दिया। निरीक्षण में लाइसेंस की शर्तो का उल्लंघन करने, परचून की दुकान में उर्वरक के रख कर बेचने व उपलब्धता के बावजूद वितरित नहीं करने, लाइसेंस पर खाद की खरीद का स्त्रोत दर्ज नहीं होने आदि अनियमितताओं पर दुकानदार शिव कुमार गुप्ता के लाइसेंस को निलम्बित करने के आदेश जारी कर दिए गए।

इस कार्रवाई के बाद टीम जब दूसरे दुकानदार गहोई ट्रेडर्स पर पहुची तो वह बन्द मिली। पता चला कि छापे की भनक मिलते ही दुकान बन्द कर दी गई। इस दुकानदार को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दे दिए गए। इस दौरान बबीना में सहकारी समिति के बन्द मिलने पर जिला सहायक निबन्धक को कार्रवाई के लिए लिखा गया।

इसके बाद टीम द्वारा राजकीय कृषि बीज निगम के गोदाम का निरीक्षण किया गया तो वहा गेहू, चना, मटर आदि के बीज एवं जिंक सल्फेट अनुदानित दरों पर बिक्रय होते पाई गई। यहा से जिंक सल्फेट का नमूना भरा गया। टीम द्वारा सेंट्रल बीज स्टोर का भी निरीक्षण किया और यहा से जिंक सल्फेट का नमूना भरा गया। इन नमूनों को परीक्षण के लिए राजकीय प्रयोगशाला भेजा जाएगा।

NO COMMENTS