जिला प्रशासन की नोटिस से परेशान स्कूल संचालक

0
122

ग्वालियर-बस आपरेटरों की हड़ताल के तीसरे दिन शुक्रवार को भी स्कूल-कालेजों में पढ़ाई ठप रही। जिला प्रशासन का नोटिस मिलने के बाद स्कूल संचालक परेशान हैं,जिला प्रशासन ने स्कूल संचालकों को सोमवार तक वाहनों की व्यवस्था करने को कहा है।

कुछ स्कूल संचालकों का कहना है कि 35 स्कूलों में लगे पांच सौ वाहनों में से केवल 50 वाहन ही स्कूल संचालकों के स्वयं के हैं। बाकी सभी वाहन बस आपरेटरों से किराए पर लेकर लगाए गए हैं। ऐसे में सोमवार तक वाहनों की वैकल्पिक व्यवस्था का आदेश व्यावहारिक नहीं हैं।

जो स्कूल शहर में संचालित हैं, वे तो ऑटो व कार से काम चला लेंगे, पर शिवपुरी लिंक रोड, मुरैना रोड व अन्य स्थानों पर स्थित स्कूलों के लिए तो बसों की ही व्यवस्था करनी होगी जो संभव नहीं है। आधा दर्जन से अधिक स्कूलों ने नोटिस का उत्तर भेज दिया है। बिना बस वाले इन स्कूलों के प्रबंधन ने कहा है कि उनके स्कूल में बस हड़ताल से कोई असर नहीं हुआ है।

स्कूल बस आपरेटरों ने गैर मियादी आंदोलन के तीसरे दिन भी बसें नहीं चलाईं। कुछ आपरेटर शाम को क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी द्वारा रद्द किए गए परमिट आवेदन की नकल लेने परिवहन कार्यालय पहुंचे। चूंकि अधिकारी दृढ़ हैं, इसलिए बस आपरेटर अब परिवहन विभाग के आदेश को न्यायालय में चुनौती देने की तैयारी कर रहे हैं।

स्कूल बस आपरेटरों की हड़ताल से निपटने के लिए जो स्कूल संचालक वाहन व्यवस्था करेंगे उनको यातायात पुलिस सुरक्षा मुहैया कराएगी। उप अधीक्षक यातायात पुलिस आनंद रावत ने कहा कि इस स्थिति में संचालकों का यह दायित्व बनता है कि वे बसों की वैकल्पिक व्यवस्था करें। जिन संस्थाओं ने वैकल्पिक व्यवस्था कर ली है उन्हें पुलिस द्वारा पूर्ण सहयोग दिया जा रहा है।