जल संरक्षण के लिए माडल जलाशय बनाये जाये

0
104

बांदा- बुंदेलखंड में घटते जल स्तर पर चिंता जाहिर करते हुए मंडलायुक्त ओपीएन सिंह ने जल संरक्षण पर जोर दिया। कहा कि प्रत्येक ग्राम सभा में एक-एक माडल जलाशय तथा सोकफिट बनाये जायें। लोगों को रोजगार उपलब्ध होता रहे इसके लिए नरेगा के काम चालू रखने को कहा।

मयूर भवन सभागार में विकास कार्यो की मंडलीय समीक्षा बैठक के दौरान मंडलायुक्त श्री सिंह ने कहा कि वृक्षारोपण के अंतर्गत कराये जा रहे कार्य जॉबकार्ड धारकों से कराये जायें। वन संरक्षक कमल किशोर ने बताया कि मंडल में दो करोड़ 31 लाख पौध उपलब्ध है। वृक्षारोपण की तैयारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक ब्लाक में एक-एक महिला आयुष चिकित्सकों तथा जहां चिकित्सक नही हैं वहां पुरुष चिकित्सकों की तैनाती संविदा के आधार पर की जाये।

मंडलायुक्त ने अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य एलआर पाल को निर्देशित किया कि दूध, घी, खाद्यांन तथा ड्रग में अपमिश्रण की शिकायत को ध्यान में रखते हुए मुख्यालयों में छापे मारे जायें। विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियंता एसएन बाजपेई को निर्देश दिये कि प्रत्येक विद्यालय में विद्युतीकरण करा दिया जाना चाहिए। श्री बाजपेई ने बताया कि 130 करोड़ की स्वीकृतियां प्राप्त हो चुकी हैं और विद्युतीकरण का कार्य प्रगति पर है।

अंबेडकर गांवों में केसी ड्रेन, सीसी रोड़, नाली, खडंजा अधूरे पाये जाने पर मंडलायुक्त ने असंतोष व्यक्त किया। राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण, स्वच्छ पेयजल, कांशीराम शहरी आवास योजना आदि की भी समीक्षा की गयी। नगरी तथा ग्रामीण पेयजल समस्या क्षेत्र में टैंकरों से पानी आपूर्ति करने, हैंडपंपों की स्थापना, रीबोर के कार्यो को युद्ध स्तर पर संचालित करने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी अधिकारियों से अपेक्षा की कि शासन की नीतियों को संचालित करने के लिए पूरी निष्ठा से कार्यो का संपादन करें। बैठक में संयुक्त विकास आयुक्त भूपेंद्र त्रिपाठी, डीएम रंजन कुमार, डीएम चित्रकूट हृदेश कुमार, डीएम हमीरपुर समीर वर्मा, डीएम महोबा विजय विश्वास पंत समेत मंडल के सभी अधिकारी उपस्थित रहें।